महंगाई की आंच में जला पेरिस,लोगों ने की आगजनी,सरकारी संपत्तियों को पहुंचाया नुकसान

पेरिस में पेट्रोल के दाम बढ़ने और बढ़ती महंगाई के खिलाफ पिछले दो सप्ताह से चल रहा विरोध प्रदर्शन और भी ज्यादा उग्र हो गया है। प्रदर्शन में शामिल कुछ लोगों ने वाहनों और बिल्डिंगों में आग लगाना शुरू कर दिया है। सरकारी संपत्तियों को भारी नुकसान पहुंचाया गया है।

नई दिल्ली: पेरिस में पेट्रोल के दाम बढ़ने और बढ़ती महंगाई के खिलाफ पिछले दो सप्ताह से चल रहा विरोध प्रदर्शन और भी ज्यादा उग्र हो गया है। प्रदर्शन में शामिल कुछ लोगों ने वाहनों और बिल्डिंगों में आग लगाना शुरू कर दिया है। उन्होंने सरकारी संपत्तियों को भारी नुकसान पहुंचाया है।

मालूम हो कि मैनुएल मैक्रों सरकार द्वारा टैक्स बढ़ाने के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने अब उग्र रूप ले लिया है। प्रदर्शनकारियों ने पूरे पेरिस शहर में जमकर उप्रद्रव मचा रखा है। चारों तरफ आगजनी और सरकारी संपत्तियों को नुकसान पहुंचाया जा रहा है।

प्रदर्शनकारी चेहरा छिपाकर हाथ में लाठी –डंडे लेकर भवनों और गाड़ियों को तोड़ रहे रहे हैं। शनिवार को करीब दर्जन भर गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया था। इस घटना में अब तक 133 लोग घायल हो चुके हैं।

 

ये भी पढ़ें…पेरिस जलवायु समझौते से हटने पर ट्रंप पर बरसे जॉन केरी, ओजे सिंपसन से की तुलना

36,500 लोगों ने लिया प्रदर्शन में हिस्सा
फ्रांस के गृह मंत्रालय के अनुसार शनिवार को हुआ प्रदर्शन तीसरे सप्ताह लगातार हुआ इस तरह का प्रदर्शन है। बताया गया कि इसमें 36,500 लोगों ने हिस्सा लिया। पिछले सप्ताह हुए एक और प्रदर्शन में 53,000 लोगों ने हिस्सा लिया था जबकि उसके एक सप्ताह पहले हुए प्रदर्शन में लगभग 113,000 लोग शामिल हुए थे।

ये भी पढ़ें…पेरिस 2024 तो लॉस एंजेलिस 2028 के ओलंपिक खेलों की करेगा मेजबानी

सरकार आपातकाल लागू करने पर कर रही विचार
पुलिस प्रवक्ता के अनुसार शनिवार को पेट्रोल की बढ़ी हुई कीमतों और हाइड्रोकार्बन टैक्स बढ़ाने के विरोध में बड़ी संख्या के लोग सड़कों पर उतरे। उसके बाद पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प हो गयी। इसे लेकर राष्ट्रपति मैक्रों प्रधानमंत्री और आंतरिक मामलों के मंत्री के साथ रविवार शाम को मीटिंग की।

इस मीटिंग में दंगाइयों से निपटने और प्रदर्शन करने वालों से बातचीत का रास्ता निकालने पर चर्चा की गयी। जब आपातकाल लागू करने को लेकर सरकार के प्रवक्ता से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सरकार के पास यह भी एक विकल्प है। जिस पर विचार किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें…पेरिस हिल्टन की बेशकीमती अंगूठी की रक्षा करेंगे सिक्यूरिटी गार्ड, ये है खासियत