अमेरिका की सबसे ताकतवर महिला नैन्सी पेलोसी, दूसरी बार बनीं स्पीकर

अमेरिका की सबसे ताकतवर महिला नैन्सी पेलोसी, दूसरी बार बनीं स्पीकर

अमेरिका में कैलिफोर्निया से सांसद नैन्सी पेलोसी अमेरिका की प्रतिनिधि सभा की स्पीकर चुनी गई हैं। स्पीकर बनने के साथ ही पेलोसी अमेरिका की सबसे ताकतवर महिला बन गयी हैं। वे अमेरिकी राष्ट्रपति व उपराष्ट्रपति के बाद अमेरिका की सबसे ताकतवर शख्सियत होंगी। अमेरिका में हाल में हुए मध्यावधि चुनाव के बाद निचले सदन यानी कि हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव में डेमोक्रेटिक पार्टी को बहुमत मिल गया है। डेमोक्रेटिक पार्टी की सांसद पेलोसी को ऐसे समय में जीत मिली है जब राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मैक्सिको की सीमा पर दीवार बनाने को लेकर फंड की मांग पर अमेरिका में लगभग शटडाउन की स्थिति है। मजे की बात तो यह है कि पेलोसी भी ट्रंप के दीवार बनाने की योजना के पूरी तरह खिलाफ हैं।

यह भी पढ़ें : तिब्बत में चीन ने भारतीय सीमा पर तैनात की होवित्जर तोपें

पेलोसी हमेशा से रिपब्लिकन पार्टी के निशाने पर रहीं हैं। रिपब्लिकन पार्टी उन पर बेहतर स्पीकर ना होने के आरोप लगाती रही है। पेलोसी दूसरी बार स्पीकर चुनी गयी हैं। इसके पहले वे 2007 में भी कुछ समय के लिए स्पीकर रही थीं। 2008 में आर्थिक संकट के दौरान उन्होंने 840 हजार मिलियन डॉलर का राहत पैकेट मंजूर किया था। उस समय पर्यावरण, लिंग और वेतन असमानता दूर करने के लिए कई सुधारों को मंजूरी मिली थी। दोबारा स्पीकर बनने पर पेलोसी ने कहा कि मुझे गर्व है कि मैं संसद के इस सदन की स्पीकर बनाई गई हूं। ये साल अमरीका में महिलाओं को मिले वोट के अधिकार का 100वां साल है। सदन में 100 से ज्यादा महिला सांसद हैं जिनमें देश की सेवा करने की काबिलियत है।

पेलोसी का राजनीतिक सफर काफी लंबा
पेलोसी लंबा राजनीतिक सफर तय करने के बाद इस महत्वपूर्ण पद पर पहुंची हैं। वे 2018 के मध्यावधि चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी की रणनीतिकार भी रहीं। पेलोसी का बचपन पूर्वी अमेरिका के मैरीलैंड राज्य के बाल्टिमोर शहर में बीता। उनके पिता इस शहर के मेयर रहे। पेलोसी के छह भाई हैं और वे अपने माता-पिता की अकेली बेटी हैं। उनके राजनीतिक सफर की शुरुआत 1976 में हुई। उस साल पेलोसी ने अपने परिवार के राजनीतिक संबंधों का लाभ उठाते हुए राजनीति में कदम रखा। उस समय उन्होंने डेमोक्रेट नेता और कैलिफोर्निया के गवर्नर जैरी ब्राउन की चुनाव में मदद की थी। 1988 में उन्हें पार्टी का उप प्रमुख चुना गया। वे धीरे-धीरे कामयाबी की सीढिय़ा चढ़ती गयीं और 2001 में उन्हें निचले सदन में संसदीय समूह का नेता नियुक्त किया गया।

अमेरिका में स्पीकर काफी ताकतवर
अमेरिकी संविधान के मुताबिक स्पीकर का पद काफी महत्वपूर्ण और ताकतवर माना जाता है। संविधान में प्राविधान है कि जरुरत पडऩे पर उपराष्ट्रपति के बाद स्पीकर राष्ट्रपति की जगह ले सकते हैं। इसके साथ ही हाउस ऑफ रिप्रजेंटेटिव में बहुमत रखने वाली पार्टी का विधायी एजेंडे पर नियंत्रण होता है। यही पार्टी बहस के नियम भी तय करती है। पेलोसी पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के समय भी काफी महत्वपूर्ण भूमिका में थीं। उन्होंने ओबामा की महत्वाकांक्षी स्वास्थ्य योजना अफोर्डेबल केयर को मंजूरी दिलाने के लिए भी महत्वपूर्ण लड़ाई लड़ी थी।
नैन्सी पेलोसी