पाकिस्तान : नवाज की पत्नी ने लाहौर सीट से नामांकन दाखिल किया

0
388

लाहौर : पाकिस्तान के अपदस्थ प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की पत्नी कुलसुम नवाज ने शुक्रवार को एनए-120 सीट पर हो रहे उपचुनाव के लिए नामांकन दाखिल किया। यह सीट सर्वोच्च न्यायालय द्वारा 28 जुलाई को उनके पति को अयोग्य ठहराए जाने के बाद रिक्त हुई थी। पीएमएल-एन ने सितंबर में इस सीट के लिए होने वाले उपचुनाव के लिए कुलसुम नवाज को इस सीट से उतारने का निर्णय लिया। उसके बाद कुलसुम ने गुरुवार देर शाम नामांकन पत्रों पर हस्ताक्षर किए।
ये भी देखें:चीन में दुनिया की सबसे ऊंची लिफ्ट से दिखते हैं अद्भुत नजारे 

वर्ष 1999 में जनरल परवेज मुशर्रफ द्वारा नवाज का तख्तापलट करने के बाद कुलसुम ने सफलतापूर्वक पार्टी का नेतृत्व किया था, यद्यपि उन्होंने कभी चुनाव नहीं लड़ा है।

कुछ दिन पूर्व नवाज ने कहा था कि उनके छोटे भाई पंजाब के मुख्यमंत्री शहबाज शरीफ प्रधानमंत्री के रूप में उनका स्थान लेंगे और वह नेशनल एसेंबली का सदस्य बनने के लिए एनए-120 सीट से चुनाव लड़ेंगे।

लेकिन पार्टी के कुछ वरिष्ठ सदस्यों ने कहा कि शहबाज के न रहने से पंजाब में पार्टी का आधार कमजोर हो सकता है, जिसके बाद शहबाज का नाम इस सीट के उम्मीदवार के रूप में वापस ले लिया गया और कुलसुम नवाज के नाम को अंतिम रूप दे दिया गया।

ये भी देखें:CLOSING BELL: सेंसेक्स 318 अंक नीचे, जानें कितने अंकों पर बंद हुआ NIFTY 

इस बीच पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ की यास्मीन राशिद ने भी एनए-120 सीट के उपचुनाव के लिए अपना नामांकन पत्र दाखिल किया है।

गुरुवार को दो निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी अपने नामांकन पत्र दाखिल किए।

मीडिया रपटों के अनुसार, 17 सितंबर को होने वाले उपचुनाव के लिए 35 उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किया है।

पाकिस्तान निर्वाचन आयोग के अनुसार, नामांकन पत्रों की जांच 15 से 17 अगस्त के बीच होगी, जबकि उम्मीदवारों की अंतिम सूची 26 अगस्त को जारी होगी।

SHARE
Previous articleअवध बार एसोसिएशन के चुनाव परिणाम घोषित, डॉ एलपी मिश्रा बने अध्यक्ष
Next articleअफगानिस्तान : मस्जिद के पास 2 गुटों में गोलीबारी, 10 मरे
आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।