पोलैंड में आज से UN जलवायु शिखर सम्मेलन, भारत को सकारात्मक उम्मीदें

Grunge flag of United nations image is overlaying a detailed grungy texture

नई दिल्ली: जलवायु परिवर्तन को लेकर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन (यूएनएफसीसीसी) की 24वीं कांफ्रेंस ऑफ पार्टीज (कॉप-24) आज यानी रविवार से शुरू होने जा रही है। यह शिखर सम्मेलन पोलैंड के काटोविक शहर में शुरू होगा। पेरिस समझौते को लागू करने के लिए दिशा-निर्देशों पर सहमति बनने की संभावना है। इस बीच 14 दिसंबर तक चलने वाले जलवायु सम्मेलन से भारत ने भी सकारात्मक उम्मीद जताई है।

यह भी पढ़ें…..अब ड्रोन उड़ाने के लिए इन नियमों का करना होगा पालन

सम्मेलन से पहले पीएम मोदी और संयुक्त राष्ट्र महासचिव की मुलाकात 

बता दें कि इससे पहले अर्जेंटीना के ब्यूनस आयर्स में चल रहे जी-20 शिखर सम्मेलन के इतर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने गुरूवार रात जलवायु परिवर्तन और पेरिस जलवायु समझौते को भारत के समर्थन के मुद्दे पर चर्चा की। मोदी और गुतारेस ने 24वीं कांफ्रेंस ऑफ पार्टीज (कॉप-24) और पेरिस समझौता वर्क प्रोग्राम, इसके पारदर्शिता ढांचे और इसके लिए वित्त की व्यवस्था से जुड़े मसलों को पूरा करने संबंधी विचारों का भी आदान प्रदान किया। भारत के पेरिस समझौते में योगदान पर गुतारेस ने मोदी को धन्यवाद दिया।

यह भी पढ़ें…..अस्पताल में डाॅक्टरों को नदारद देख भड़कीं DM, सैलरी रोकने का दिया निर्देश

भारत को सकारात्मक उम्मीदें 

सम्मेलन में हिस्सा लेने काटोविक शहर पहुंचे केंद्रीय पर्यावरण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि भारत को इससे बहुत सारी सकारात्मक उम्मीदें हैं। सम्मेलन से निकलने वाला परिणाम ‘संतुलित और समावेशी’ होना चाहिए। केंद्रीय मंत्री ने कहा, भारत को उम्मीद है कि कॉप-24 विकसित देशों के मुकाबले विकासशील देशों के सामने मौजूद चुनौतियों को समझेगा।

यह भी पढ़ें…..‘नेशनल पोल्यूशन कंट्रोल डे’ का क्या है भोपाल गैस त्रासदी से संबंध, जानें सब कुछ

कॉप-24 इस बात को महसूस करेगा कि ये देश अति संवदेनशीलता, विकास की प्राथमिकता, गरीबी उन्मूलन, खाद्य सुरक्षा, ऊर्जा की मांग और स्वास्थ्य ढांचा उपलब्ध कराने के मामले में अभी शुरुआती स्तर पर खड़े हैं। उन्होंने इस पर भी जोर दिया कि भारत को इस सम्मेलन में समयबद्ध तरीके से लागू होने वाले दिशा-निर्देश तैयार किए जाने की भी उम्मीद है।