अमेरिका में टेक्नॉलजी सेक्टर की टॉप 50 महिलाओं में 4 भारतवंशी, जानें इनके बारे में

नई दिल्ली: भारतीय महिलाएं किसी से कम नहीं हैं उन्होंने एक बार फिर साबित कर दिखाया है। फोर्ब्स ने अमेरिका में प्रौद्योगिकी क्षेत्र की दिग्गज 50 महिलाओं की एक सूची जारी की है। इसमें चार महिलाएं भारतीय मूल की हैं। सिस्को की पूर्व चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर पद्मश्री वॉरियर, उबर की सीनियर डायरेक्टर कोमल मंगतानी, कॉन्फ्लुएंट की चीफ टेक्नोलॉजी ऑफिसर और को-फाउंडर नेहा नरखेड़े, आइडेंटिटी मैनेजमेंट कंपनी ड्रॉब्रिज की कामाक्षी शिवरामकृष्णन ने सूची में जगह बनाई है। जो भारतीय मूल की हैं।

यह भी पढ़ें…..इस गांव में 13 घंटे नाइट गाउन नहीं पहन सकती महिलाएं, पकड़े जाने पर भरना होगा जुर्माना

फोर्ब्स ने ‘अमेरिका की 2018 में प्रौद्योगिकी क्षेत्र की शीर्ष 50 महिलाओं’ की सूची में कहा कि महिलाएं भविष्य का इंतजार नहीं करती। प्रौद्योगिकी में 2018 की शीर्ष 50 महिलाओं की आरंभिक सूची में तीन पीढ़ियों का प्रतिनिधित्व दिखता है जो एक दशक से भी अधिक समय से दुनियाभर में तकनीक के क्षेत्र में आगे हैं

आई जानते हैं सूची में शामिल भारतीय मूल की महिलाओं के बार में

पद्मश्री वॉरियर

58 साल की पद्मश्री वॉरियर ने मोटोरोला और अमेरिकी टेक सिस्को सिस्टम्स दोनों में अहम भूमिका निभाई। अब वह चीनी स्टार्टअप कंपनी एनआईओ की अमेरिकी प्रमुख हैं। वॉरियर 17 दिसंबर को इस्तीफा देंगी। इससे पहले वो सिस्को में चीफ टेक्नोलॉजी अधिकारी थीं। सिस्को के अधिग्रहण के सौदों में वॉरियर की अहम भूमिका थी। वो माइक्रोसॉफ्ट के बोर्ड में भी शामिल हैं। आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा में जन्मीं पद्मश्री दिल्ली आईआईटी से पढ़ाई की हैं।

यह भी पढ़ें…..मिशन 2019 की तैयारियों में जुटी बीजेपी, पदयात्रा के बहाने संगठन मजबूत करना मकसद

कोमल मंगतानी

कोमल मंगतानी गुजरात के धर्मसिंह देसाई इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी की पूर्व छात्र हैं। वह अभी ऊबर के बिजनस इंटेलिजेंस डिपार्टमेंट की प्रमुख हैं। इसके साथ ही 43 वर्षीय मंगतानी उबर की सीनियर डायरेक्टर हैं। कोमल उबर के महिला एनजीओ के बोर्ड में भी शामिल हैं।

नेहा नरखेड़े

नारखेडें ने पुणे विश्वविद्यालय से पढ़ाई की है। 32 साल की नेहा लिंक्डइन में सॉफ्टवेयर इंजीनियर थीं और उन्होंने अपाचे काफका को विकसित करने में अहम भागीदारी निभायी। उन्होंने अपने लिंक्डइन के एक सहयोगी के साथ कोंफ्लूएंट की स्थापना की जो डाटा आकलन क्षेत्र की प्रमुख कंपनी है। इसके ग्राहकों में गोल्डमैन सैक्स, नेटफ्लिक्स और उबर जैसी कंपनियां शामिल हैं।

यह भी पढ़ें…..हनुमान को दलित बताने का मामला-अनुसूचित जाति के लोगों ने इस विख्यात मंदिर के बाहर किया प्रदर्शन

कामाक्षी शिवरामकृष्णन

शिवरामकृष्णन आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से जुड़ी कंपनी ड्रॉब्रिज की सीईओ और फाउंडर हैं। 43 वर्षीय कामाक्षी शिवरामकृष्णन की कंपनी ड्राब्रिज बड़े स्तर पर कृत्रिम मेधा (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) और मशीन लर्निंग का उपयोग करती है और यह कई डिवाइस के लोगों की पहचान सुनिश्चित करने में सक्षम है। इनकी कंपनी में अब तक 6.87 करोड़ डॉलर का बाहरी निवेश हो चुका है। ड्रॉब्रिज शुरू करने से पहले कामाक्षी मोबाइल एड प्लेटफॉर्म एडमोब में डेटा साइंटिस्ट थीं। उन्होंने मुंबई से पढ़ाई की थी।