शिवपाल ने मायावती पर किया पलटवार, कहा- पैसे के लिए टिकट कौन बेचता है…

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन जातिवादी, भ्रष्टाचारी व अवसरवादी लोगों का है। इन्हें विकास व गुड गवर्नेंस से कोई मतलब नहीं है। जनता इस बात को समझती है और 2019 में इन्हें करारा जवाब देगी।

लखनऊ: सपा बसपा के गठबंधन के दौरान मायावती के शिवपाल को लेकर दिए बयान के बाद प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने बसपा सुप्रीमो मायावती पर तगड़ा पलटवार किया है और सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को नसीहत भी दी है।

ये भी पढ़ें— सपा-बसपा गठबंधन पर बोले पी चिदंबरम, अपने दम पर चुनाव लड़ेगी कांग्रेस

शिवपाल ने कहा कि ये सभी जानते हैं कि भाजपा के साथ गठबंधन कर कौन सरकार बना चुका है। पैसे के लिए कौन टिकट बेचता है। जबकि मैं पिछले चार दशकों से भाजपा की सांप्रदायिक राजनीति के खिलाफ संघर्ष कर रहा हूं। दरअसल, मायावती ने आरोप लगाए थे कि सपा को कमजोर करने के लिए भाजपा शिवपाल यादव की मदद कर रही है। इसके लिए भाजपा ने पानी की तरह पैसा बहाया है।

ये भी पढ़ें— SP-BSP गठबंधन: कार्यकर्ताओं में दिखा जोश, मायावती बनीं रानी लक्ष्मीबाई, अखिलेश बनें टीपू सुल्तान

शिवपाल ने अखिलेश यादव को भी नसीहत देते हुए कहा कि मायावती पहले भी दलित, पिछड़ों व अल्पसंख्यकों का वोट लेकर भाजपा से गठबंधन कर चुकी हैं। यहां तक कि भाजपा को फायदा पहुंचाने के लिए राजस्थान, मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़ में गठबंधन भी नहीं किया। अखिलेश को समझना चाहिए कि कहीं इतिहास फिर से खुद को न दोहराए और मायावती भाजपा के साथ गठबंधन कर लें।

जानें क्या कहा योगी ने…

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सपा-बसपा गठबंधन जातिवादी, भ्रष्टाचारी व अवसरवादी लोगों का है। इन्हें विकास व गुड गवर्नेंस से कोई मतलब नहीं है। जनता इस बात को समझती है और 2019 में इन्हें करारा जवाब देगी।

ये भी पढ़ें— SP-BSP बराबरी पर छूटने वाला नहीं गठबंधन का का फार्मूला

जानें क्या कहा अमर सिंह ने…

गठबंधन पर राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने चुटकी लेते हुए कहा कि यह केवल बुआ और बबुआ का मेल है। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी के संस्थापक हमेशा से मुलायम सिंह रहे हैं और आगे भी रहेंगे। बता दें कि सपा-बसपा गठबंधन का औपचारिक एलान कर दिया गया। प्रदेश में 38-38 सीटों पर सपा-बसपा चुनाव लड़ेंगी जबकि दो सीटें कांग्रेस व दो सीटें अन्य दलों के लिए छोड़ दी गई हैं।