पंचायतीराज मंत्री ने कहा-यूपी के 69 जिले ओडीएफ घोषित, 6 जिले शेष

प्रदेश के 69 जनपदों को ओडीएफ घोषित किया जा चुका है। शेष 06 जनपदों को भी शीघ्र ओडीएफ घोषित होंगे। पंचायतीराज राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री भूपेन्द्र सिंह चौधरी ने यह आंकड़ा पेश किया है। स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत रायबरेली, फतेहपुर, जौनपुर, सीतापुर, पीलीभीत, चित्रकूट ओडीएफ घोषित होने हैं।

पंचायतीराज मंत्री ने कहा-यूपी के 69 जिले ओडीएफ घोषित, 6 जिले शेष

लखनऊ: प्रदेश के 69 जनपदों को ओडीएफ घोषित किया जा चुका है। शेष 06 जनपदों को भी शीघ्र ओडीएफ घोषित होंगे। पंचायतीराज राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री भूपेन्द्र सिंह चौधरी ने यह आंकड़ा पेश किया है। स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत रायबरेली, फतेहपुर, जौनपुर, सीतापुर, पीलीभीत, चित्रकूट ओडीएफ घोषित होने हैं। फतेहपुर, जौनपुर व सीतापुर में प्रगति खराब होने पर जिम्मेदारों पर विभागीय कार्यवाही होगी।

यह भी पढ़ें ……टॉयलेट : एक भ्रम कथा, सच्चाई ओडीएफ की

मंत्री ने ग्राम पंचायतों द्वारा स्वच्छ पेयजल के लिए हैण्डपम्प रिबोर कराये जाने की प्रगति की भी समीक्षा की। इसमें सामने आया कि सन्तकबीर नगर, हमीरपुर, अमरोहा, सीतापुर, बस्ती, इटावा, गाजीपुर, अम्बेडकर नगर, चित्रकूट और कानपुर नगर की प्रगति खराब है। इन जनपदों के जिला पंचायतराज अधिकारियों से स्पष्टीकरण मांगा गया है। राज्य वित्त आयोग की संस्तुतियों के अन्तर्गत वर्ष 2015-16 एवं 2016-17 में क्षेत्र पंचायतों को आवंटित धनराशि का उपभोग प्रमाण पत्र 07 जनपदों द्वारा उपलब्ध कराया है, शेष जनपदों द्वारा उपलब्ध नहीं कराया गया। मंत्री ने ऐसे जिलों को जल्द से जल्द उपभोग प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने को कहा।

यह भी पढ़ें ……UP में मोदी की योजनाओं का बेड़ागर्क, तीन हजार करोड़ खर्च, सिर्फ एक जिला ओडीएफ

उन्होंने मुख्यमंत्री समग्र ग्राम विकास योजना के तहत स्वच्छ पेयजल हेतु हैण्डपम्प की प्रगति की समीक्षा में लखनऊ सहित 13 जनपदों की स्थिति अत्यन्त ही खराब पाई। इस पर नाराजगी जताते हुए लखनऊ, गोण्डा, फतेहपुर सहित 13 जनपदों के जिला पंचायतराज अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए।

यह भी पढ़ें ……हिमांचल प्रदेश देश का स्वच्छतम राज्य घोषित, 12 जिले हुए ‘शौच मुक्त’