बी चंद्रकला पर अब ED के निशाने पर, जल्द हो सकती है FIR

चर्चित आईएएस बी चंद्रकला खनन मामले में जहां सीबीआई के निशाने पर हैं वहीं अब प्रवर्तन निदेशालय भी इस मामले में जांच शुरू कर सकता है। फिलहाल ईडी ने एफआईआर का परीक्षण शुरू कर दिया है। माना जा रहा है कि इस मामले में ईडी जल्द केस दर्ज कर जांच शुरू कर सकता है।

लखनऊ : चर्चित आईएएस बी चंद्रकला खनन मामले में जहां सीबीआई के निशाने पर हैं वहीं अब प्रवर्तन निदेशालय भी इस मामले में जांच शुरू कर सकता है। फिलहाल ईडी ने एफआईआर का परीक्षण शुरू कर दिया है। माना जा रहा है कि इस मामले में ईडी जल्द केस दर्ज कर जांच शुरू कर सकता है। ईडी के संयुक्त निदेशक राजेश्वर सिंह व अन्य अधिकारियों ने इसे लेकर बैठक की है। इसके बाद समाने आया की मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत ईडी एफआईआर दर्ज कर सकता है।

ये भी पढ़ेंं— IAS अधिकारी बी चंद्रकला के आवास पर CBI का छापा

ये है पूरा मामला

अवैध खनन मामले में 11 सरकारी लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। कुछ प्राइवेट लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। वर्ष 2012 से 2016 के बीच का मामला है। एनजीटी के प्रतिबंध के बावजूद खनन किया गया था और काफी पैसों की उगाही की गई थी। इस मामलों में सात जिलों में सीबीआई की तफ्तीश चल रही थी। 31.5.2012 को एक टेंडर हुआ था जो ई-टेंडर के मार्फत नहीं किया गया था। इस मामले को कोर्ट ने काफी गंभीरता से लेते हुए सीबीआई को जांच के निर्देश दिए थे। जानकारी के अनुसार अवैध रेत खनन मामले में तत्कालिक खनन मंत्री समेत अन्य मंत्रियों के खिलाफ भी सीबीआई जांच करेगी।

ये भी पढ़ेंं— कानपुर- हमीरपुर से सपा एमएलसी रमेश मिश्रा के आवास पर CBI का छापा

आरोपियों के नाम

1. बी चन्द्रकला, आईएएस, तत्कालीन डीएम हमीरपुर
2. आदिल खान माइनिंग का लीज होल्डर
3. मोइनुद्दीन जियोलॉजिस्ट (तत्कालीन खनन अधिकारी हमीरपुर) के लखनऊ वाले आवास से 12 लाख की नक़दी और 1.8 किलो गोल्ड मिला है।
4. रमेश कुमार मिश्रा एमएलसी
5. दिनेश कुमार मिश्रा रमेश के भाई हैं, इन दोनों के यहां भी छापेमारी हुई है।
6. रामाश्रय प्रजापति माइनिंग क्लर्क
7. अम्बिका तिवारी हमीरपुर के रहने वाले हैं, और दिनेश व रमेश मिश्रा के जानकर भी हैं। संजय दीक्षित बीएसपी से चुनाव लड़ चुके हैं, इनके पिता सत्यदेव दीक्षित के घर भी छापेमारी हुई है।

ये भी पढ़ेंं— हमीरपुर- खनन पर CBI की बड़ी कार्यवाही, 2 बड़े मौरंग व्यवसायियों के घरों में छापेमारी

8. रामावतार सिंह सीनियर क्लर्क के तौर पर सेवानिवृत्त हुए थे, जो जालौन के रहने वाले हैं। रामावतार के घर से दो करोड़ नकदी और दो किलो सोना मिला है।

9.करण सिंह के यहां भी छापेमारी हुई है, इसका संबंध रामावतार सिंह से है। सीबीआइ सात “प्राथमिक मामला (PE)” दर्ज किया था, जिस पर अब तक कार्रवाई हुई है।