‘मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत’ की सूची में शामिल किया गया कुंभ

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक जी ने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय संस्था यूनेस्को द्वारा कुम्भ को ‘मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत’ की सूची में सम्मिलित किया गया है।

‘मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत’ की सूची में सम्मिलित किया गया कुंभ

‘मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत’ की सूची में सम्मिलित किया गया कुंभ

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक जी ने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय संस्था यूनेस्को द्वारा कुंभ को ‘मानवता की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत’ की सूची में सम्मिलित किया गया है। भारत की योग की शक्ति को मान्यता देते हुए यू0एन0ओ0 द्वारा प्रतिवर्ष 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया गया है। दुनिया अब भारत की शक्ति पहचानने लगी है। प्रयागराज कुंभ-2019 विश्व को भारत की सांस्कृतिक श्रेष्ठता से परिचित कराएगा।

यह भी पढ़ें: पेरियार की पुण्यतिथि: दक्षिण पूर्व एशिया का सुकरात, राजनेता व समाज सुधारक आज भी प्रसंगिक है

राज्यपाल जी ने यह विचार आज यहां आयोजित ‘युवा कुंभ’ के उद्घाटन सत्र में अपने अध्यक्षीय उद्बोधन में व्यक्त किए। ‘युवा कुंभ’ में उपस्थित युवाओं को प्रयागराज कुंभ-2019 में सम्मिलित होने का आमंत्रण देते हुए उन्होंने कहा कि कुंभ में उमड़ने वाला स्वतः स्फूर्त जनसागर उन सभी को कुंभ की चुम्बकत्व शक्ति से परिचित होने का अवसर देगा। उन्होंने प्रदेश के विश्वविद्यालयों से उपाधि एवं पदक प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों में छात्राओं के अधिक प्रतिशत का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश तेजी से बदलाव की ओर अग्रसर है।

यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव के लिए यूपी बीजेपी में होगा मंथन, तय होंगे कार्यक्रम

‘युवा कुंभ’ के मुख्य अतिथि के रूप में अपने उद्बोधन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि भारत दुनिया का सबसे युवा देश है। देश के युवाओं ने पूरे विश्व में अपनी ऊर्जा और प्रतिभा का लोहा मनवाया है। युवाओं की सामथ्र्य का उपयोग राष्ट्र निर्माण में हो यही ‘युवा कुंभ’ की भावना है।

यह भी पढ़ें: मोहम्मद रफी का 94वां जन्मदिन आज, जनता के बीच इस नाम से थे फेमस

उन्होंने कहा कि युवाओं को अपनी परम्परा और संस्कृति से जुड़ना चाहिए। अतीत से भटका व्यक्ति वर्तमान का त्रिशंकु होता है। युवाओं का एक लक्ष्य होना चाहिए। उन्होंने युवाओं को षड़यंत्रकारी शक्तियों से सचेत रहते हुए अपनी ऊर्जा और क्षमता को राष्ट्र के निर्माण में लगाने की आवश्यकता पर बल दिया।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि भारतीय परम्परा को लांछित करने वाली शक्तियां कुंभ को पर्यावरण, महिला, युवा विरोधी बताती हैं। यह धारणा उचित नहीं है। इसीलिए पांच वैचारिक कुम्भों का आयोजन किया गया है। काशी में ‘पर्यावरण कुंभ’, आगरा में ‘नारी शक्ति कुंभ’, अयोध्या में ‘समरसता कुंभ’ का आयोजन किया जा चुका है। यहां ‘युवा कुंभ’ के पश्चात प्रयागराज में ‘संस्कृति कुंभ’ का आयोजन किया जाएगा।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि भारत की सनातन संस्कृति से अधिक पर्यावरण हितैषी कोई नहीं है, जिसमें पशु, पक्षी, पेड़, पौधों आदि की भी उपासना की जाती है। धरती, गंगा, गाय आदि को मां मानने वाली संस्कृति और समाज नारी विरोधी नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि कुंभ सभी भेद-भाव से रहित है। इसमें सभी जाति, मत, मजहब, क्षेत्र, भाषा के लोग स्वतः स्फूर्त भाव से सम्मिलित होते हैं।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रयागराज कुंभ में 12 से 15 करोड़ लोगों का प्रेरणादायी संगम होगा। कुंभ का आयोजन भारत की एकतात्मकता और अखण्डता का प्रतीक है। बोली-भाषा, खान-पान, रूप-रंग अलग होते हुए भी भारत एक राष्ट्र और एक संस्कृति है। हमारे उपासना स्थल हमारी एकता और एकात्मकता के केन्द्र हैं। कुंभ का आयोजन हमारे देश की इसी एकात्मकता को दर्शाता है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रयास से यूनेस्को द्वारा कुंभ की महत्ता को देखते हुए इसे विश्व की अमूर्त सांस्कृतिक धरोहर की सूची में सम्मिलित किया गया है। पहली बार हुआ है कि कुंभ की तैयारियों को देखने के लिए 70 देशों के राजदूत प्रयागराज आये।

साढ़े 400 बरसों में पहली बार केन्द्र सरकार के सहयोग से राज्य सरकार ने कुंभ में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए अक्षयवट और सरस्वती कूप के दर्शन की व्यवस्था की है। प्रयागराज का इतिहास हजारों-हजार वर्षाें का है। कुंभ का आयोजन गंगा जी, यमुना जी तथा सरस्वती जी की त्रिवेणी के संगम पर होता है, किन्तु इसका सम्बन्ध सम्पूर्ण प्रयागराज क्षेत्र से है।

राज्य सरकार ने भारद्वाज आश्रम, कुंभ के इष्ट देव वेणी माधव सहित कुंभ से सम्बन्धित सभी प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष स्थलों का पुनरुद्धार कराया है। राज्य सरकार प्रयागराज में भारद्वाज मुनि और माँ सरस्वती की भव्य प्रतिमा भी स्थापित करा रही है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा कुंभ श्रद्धालुओं के लिए सभी आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करायी गयी हैं। पहली बार कुंभ के श्रद्धालुओं, पर्यटकों, जिज्ञासुओं आदि के लिए जल, थल और नभ मार्ग से प्रयागराज आने की व्यवस्था की गयी है। 16 दिसम्बर, 2018 को प्रधानमंत्री जी द्वारा हवाई अड्डे के सिविल टर्मिनल का शुभारम्भ किया गया है। वाराणसी से प्रयागराज तक गंगा में जलमार्ग से यात्रा की व्यवस्था की गयी है। 264 सड़क मार्गों को चिन्हित कर उनका चैड़ीकरण, सुदृढ़ीकरण किया गया है।

साथ ही, 10 आरओबी और फ्लाईओवर, 6 अण्डर पास का निर्माण कराया गया है। इस बार कुंभ क्षेत्रफल को 1700 हेक्टेयर से बढ़ाकर 3,200 हेक्टेयर किया गया है। कुंभ में इस बार स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया गया है। इसके लिए 01 लाख 22 हजार से अधिक ईको फ्रेण्डली शौचालयों का निर्माण कराया गया है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि विगत साढ़े चार वर्ष में केन्द्र सरकार ने कौशल विकास मिशन, मुद्रा, स्टैण्डअप, स्टार्टअप आदि योजनाओं के माध्यम से युवाओं के लिए आगे बढ़ने के अवसर सुलभ कराएं हैं। डेढ़ वर्ष में प्रदेश सरकार ने डेढ़ लाख से अधिक युवाओं को नौकरी उपलब्ध करायी है। 69 हजार शिक्षकों तथा 50 हजार पुलिसकर्मियों की भर्ती प्रक्रिया प्रचलित हैं।

वर्ष 2019 के पहले माह में यह पूर्ण कर ली जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में निवेश का वातावरण बनाकर राज्य सरकार ने युवाओं को स्वावलम्बी बनाने की ओर अग्रसर किया है। ‘एक जनपद एक उत्पाद’ योजना से आगामी पांच वर्षों में 20 लाख युवाओं को रोजगार के अवसर सुलभ होंगे।

सहसरकार्यवाह एवं ‘युवा कुंभ’ के मुख्य वक्ता डाॅ0 कृष्ण गोपाल ने अपने उद्बोधन में कहा कि कुंभ की परम्परा अत्यन्त प्राचीन है। इसमें गंगा स्नान का प्रतीकात्मक महत्व है। वस्तुतः यह समाज की परिस्थिति पर चिंतन-मंथन के लिए चिंतकों और साधकों का समागम है। उन्होंने कहा कि कुंभ में पूरे देश के सभी भागों की भागीदारी का कारण आध्यात्मिक भाव है। यही आध्यात्मिक भाव इस देश की आधारशिला और एकता की गारण्टी भी है।

कार्यक्रम में अपने स्वागत भाषण में लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 सुरेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि सृजन और निर्माण के लिए 4डी, डिवोशन, डेडिकेशन, डिटरमिनेशन, डिसिप्लिन आवश्यक है। समर्थ भारत के निर्माण की ऊर्जा युवा है। यह निर्माण संस्कारवान और अनुशासित युवाओं द्वारा ही सम्भव है। उन्होंने कहा कि ‘युवा कुंभ’ युवाओं को मार्ग दिखाने के लिए आयोजित किया गया है।

कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल जी एवं मुख्यमंत्री जी ने पुस्तिका ‘जाग रे नचिकेता जाग’ का विमोचन भी किया। इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री आशुतोष टण्डन, लखनऊ की महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया, विधायक श्री जय प्रकाश चतुर्वेदी, श्री पंकज सिंह, अन्य जनप्रतिनिधिगण, युवा कुंभ के राष्ट्रीय संयोजक श्री शतरुद्र प्रताप, अन्य गणमान्य नागरिक तथा बड़ी संख्या में युवा समुदाय उपस्थित था।