कानपुर- हमीरपुर से सपा एमएलसी रमेश मिश्रा के आवास पर CBI का छापा

हमीरपुर से समाजवादी पार्टी से एमएलसी रमेश मिश्रा के कानपुर स्थित आवास पर सीबीआई ने छापेमारी की। शनिवार को दो इनोवा गाड़ी में सीबीआई की 12 सदस्यी टीम अचानक घर पहुंची। पूरे घर में हडकंप मच गया ,लेकिन सीबीआई के हाथ एमएलसी रमेश मिश्रा हाथ नहीं लगे। घर पर एमएलसी की पत्नी दो बेटे और नौकर मौजूद थे।

कानपुर- हमीरपुर से सपा एमएलसी रमेश मिश्रा के आवास पर CBI का छापा

कानपुर: हमीरपुर से समाजवादी पार्टी से एमएलसी रमेश मिश्रा के कानपुर स्थित आवास पर सीबीआई ने छापेमारी की। शनिवार को दो इनोवा गाड़ी में सीबीआई की 12 सदस्यी टीम अचानक घर पहुंची। पूरे घर में हडकंप मच गया ,लेकिन सीबीआई के हाथ एमएलसी रमेश मिश्रा हाथ नहीं लगे। घर पर एमएलसी की पत्नी दो बेटे और नौकर मौजूद थे। सीबीआई ने सभी से लगभग डेढ़ घंटे तक पूछताछ की। इसके बाद पास में रहने वाले एमएलसी के भाई दिनेश कुमार मिश्रा के घर पर भी छापेमारी की।इस दौरान सीबीआई ने कई अहम् दस्तावेज बरामद किए है और दो लोगों को अपने साथ लेकर गई है।

यह भी पढ़ें…..IAS अधिकारी बी चन्द्रकला के आवास पर CBI की छापेमारी, दिल्ली से आई CBI की टीम की रेड

नौबस्ता थाना क्षेत्र स्थित के ब्लॉक में रहने वाले सपा एमएलसी रमेश मिश्रा और उनके भाई दिनेश कुमार मिश्रा का आवास है। जानकारी के मुताबिक सीबीआई की टीम ने पहले रमेश मिश्रा के हमीरपुर स्थित आवास पर छापेमारी की। इसके बाद कानपुर स्थित आवास पर लगभग दो घंटे तक पूछताछ की है। सीबीआई की टीम रमेश मिश्रा के सीए को अपने साथ लेकर गई है।

यह भी पढ़ें…..हमीरपुर- खनन पर CBI की बड़ी कार्यवाही, 2 बड़े मौरंग व्यवसायियों के घरों में छापेमारी

समाजवादी सरकार में रमेश मिश्रा और उनके भाई दिनेश मिश्रा के नाम पर हमीरपुर में मानक के विपरीत कई खनन के कई पट्टे किए गए थे।रमेश मिश्रा का मौरंग का बहुत बड़ा कारोबार था। खनन के पट्टे होने के बाद उनके बिजनेस् को नई उड़ान मिल गई थी।

यह भी पढ़ें…..अगस्ता वेस्टलैंड: कोर्ट में पेश किया गया मिशेल, 5 दिन की सीबीआई हिरासत में भेजा

बताया जाता है कि 2014-2015 में हमीरपुर की डीएम रही बी चंद्रकला ने ई -टेंडर के नियमों को दरकिनार करते हुए , रमेश मिश्रा को खनन के पट्टे आवंटित किए थे। इसके साथ ही खदान के खनन में अभी अनियमितता बरती गई थी। जानकारी के मुताबिक विजय द्विवेदी नाम के शख्स ने अवैध खनन पर हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। जब हाईकोर्ट ने इस मामले को संज्ञान में लिया तो इसकी जांच सीबीआई को सौंपी थी।