CM योगी की सख्ती: प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले कई डॉक्टर हो सकते हैं सरकारी नौकरी से अलविदा

0
76
1 of 2

गोरखपुर : यूपी में नई सरकार के गठन के बाद मुख्यमंत्री (सीएम) योगी आदित्यनाथ ने प्राइवेट प्रैक्टिस करने वाले सरकारी डॉक्टरों के खिलाफ तेवर सख्त कर दिए है। गोरखपुर ही नही पूर्वी क्षेत्र के इस इकलौते बाबा राव दास (बीआरडी) मेडिकल कॉलेज के लगभग एक दर्जन बड़े डॉक्टर वोलंटरी रिटायरमेंट स्कीम (वीआरएस) ले सकते हैं। इन प्राइवेट प्रेक्टिस करने वाले चिकित्सको में मेडिसिन, पीडिया, आर्थो,जनरल सर्जरी, गायनी, ईएनटी और साईकेट्री के डॉक्टर शामिल हैं।

कई डॉक्टर खुलकर करते है प्राइवेट प्रेक्टिस
-बता दें कि 900 बेड की क्षमता वाले अस्पताल के चलते बीआरडी मेडिकल कॉलेज की पहचान पूर्वांचल के एक मात्र मेडिकल कॉलेज के रूप में है।
-इसमें रोजाना करीब 5,000 मरीज ओपीडी में इलाज कराने आते हैं।
-मरीजों की भारी भीड़ होने के कारण इस अस्पताल के डॉक्टर कॉलेज कंपाउंड सहित शहर के कई क्षेत्रों में खुलकर प्राइवेट प्रेक्टिस भी करते रहे हैं।
-जिसकी सूचना मिलने पर यूपी सरकार की ओर से कराए गए स्टिंग ऑपरेशन में प्राइवेट प्रैक्टिस करते ईएनटी के डॉ. आरएन यादव फंस भी चुके है।
-हालांकि, केवल यही नहीं बल्कि इसके अलावा कैंपस के लगभग 3 दर्जन डॉक्टर इसमें संलिप्त हैं।

निजी अस्पतालों से भी जुड़े
-देखा जाए तो मेडिसिन विभाग के कुछ डॉक्टर तो कैंपस में बने सरकारी आवासों पर ही धड़ल्ले से मरीजों का इलाज करते हैं।
-इनमें से भी मेडिकल कॉलेज में कार्यरत पीडियाट्रिक्स, आर्थो, ईएनटी और गायनी विभाग के एक दर्जन डॉक्टरों के निजी अस्पताल हैं।
-जबकि कॉलेज के कुछ डॉक्टरों की क्लीनिक महानगर के पाश इलाके बेतियाहाता में चलती है।
-साथ ही साथ शहर से सटे कुछ इलाकों गोरखनाथ, चरगांवा और करीम नगर में कुछ निजी अस्पतालों में सरकारी डॉक्टर मरीजों का इलाज करते हैं।
-सबसे बड़ी बात कि कॉलेज में कार्यरत कुछ एनेस्थिसिया के डॉक्टर निजी अस्पतालों से भी जुड़े हैं।

अधिक जानकारी के लिए आगे की स्लाइड्स में जानें…

1 of 2