फसलों के अवशेष फूंकने के चक्कर में 10 बीघा गन्ना स्वाहा

अब देखना यह है कि गरीब के पेट मे लगाई गई इस आग के पीछे जो अपराधी है उसे सजा मिलती है या नही ,इस तरह 10 बीघा गन्ना जल कर नष्ट होने से किसान रोते बिलखते नजर आए।

श्रावस्ती: जिले के तहसील इकौना के भम्भरी भगवान पुर का है जहाँ दोपहर 1 बजे के करीब 10 बीघे गन्ने में उठती आग की लपटों को देख कर किसान लोटा बाल्टी ले कर खेत मे आग बुझाने दौड़ते नजर आए।

ये भी पढ़ें— शादी समारोह से लौटते समय व्यवसाई परिवार हुआ हादसे का शिकार, आधा दर्जन की मौत

पास के ही एक खेत मे जिसमे गन्ना काट लिया गया था उसमे बचे अवशेषों को जलाया जा रहा था, जिसके कारण आस पास के गन्ने की खेतों में आग तेजी से फैल गयी जिस से गरीबों के खेत देखते देखते स्वाहा हो गया। ग्रामीण स्वयं लोटा बाल्टी लेकर आग बुझाने पहुंचे। हृदय राम,पप्पू व पप्पी देवी के खेतों में आग पूरी तरह फैल चुकी थी बड़ी मेहनत मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया।

ये भी पढ़ें— अखिलेश को हवाई-अड्डे पर रोके जाने पर, जानें प्रयागराज का हुआ क्या हाल

पप्पी देवी का कहना है दिन में वो घास के लिए खेतों की ओर निकली थी तभी पड़ोस के एक खेत मे अवशेष जलाया जा रहा था।उसके एक घण्टे बाद ही आग कई लोगों के गन्ने में लग गयी ग्रामीण दमकल विभाग को फोन लगाते रहे परंतु कोई रिस्पांस नही मिला।

ये भी पढ़ें— संसद बजट सत्र: राज्यसभा में उठा अखिलेश यादव को एयरपोर्ट पर रोके जाने का मुद्दा

गौरतलब है कि हाल ही में जिलधिकरी ने खेतों में अवशसेस न जलाने का सख्त निर्देश दिया था और ऐसा करने वालों पर एक निर्धारित राशि जुर्माने के तौर पर भरना होगा,परंतु ग्रामीण इस आदेश की धज्जियां उड़ा रहे हैं जगह जगह। अब देखना यह है कि गरीब के पेट मे लगाई गई इस आग के पीछे जो अपराधी है उसे सजा मिलती है या नही ,इस तरह 10 बीघा गन्ना जल कर नष्ट होने से किसान रोते बिलखते नजर आए।