national news

मंगलवार को प्रसपा ने उत्तर प्रदेश में 30 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कर दी है। घोषणा होने के बाद शिवपाल सिंह यादव फैन्स एसोसिएशन एक्टिव हो गया है। एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष आशीष चौबे के मुताबिक सपा-बसपा ने सीबीआई के डर की वजह से गठबंधन किया है।

बिहार में बीजेपी ने अपनी मजबूत दुर्ग बन चुकी भागलपुर सीट जदयू को दे दी है। इसके बाद 23 वर्षों बाद ये पहला मौका होगा जब ईवीएम में ‘कमल’ नजर नहीं आएगा। इसके साथ ही पहली बार बीजेपी नेता इस सीट से तीर पर वोट देने की अपील करेंगे।

महाराष्ट्र, कोल्हापुर के गंगा आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज से आयुर्वेदिक मेडिसन में स्नातक की डिग्री। गोवा में वैकल्पिक चिकित्सा के डॉक्टर के तौर पर काम किया है।  एमएसडब्ल्यू की पढ़ाई पुणे की तिलक महाराष्ट्र विद्यापीठ से पूरी की।

इससे पहले राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने 14 मार्च को राष्ट्रपति भवन में आयोजित एक कार्यक्रम में भी सैनिकों को सम्मानित किया था। यहां पर जनरल विपिन रावत को विशिष्ट सेवा पदक से सम्मानित किया था।

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया एक कट्टर इस्लामिक आतंकी संगठन है, जो सोशल मीडिया और पब्लिक में स्वयं को मानव अधिकार, समानता, न्याय, स्वतंत्रता एवं सुरक्षा के लिए काम करने वाला बताता है। इसके सेवा की आड़ में दुर्दांत षड्यंत्रकारी चहेरे की तुलना पाकिस्तानी आतंकी संगठन 'जमात-उल-दावा' से की जा सकती है। जिसका नेता भारत का नंबर एक दुश्मन 'हाफिज सईद' है।

कांग्रेस महासचिव एवं पूर्वांचल प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा सोमवार को धर्म स्थल सीतामढ़ी पहुंची। अपने दस मिनट के सम्बोधन में उन्होंने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा यह निर्बल सरकार है, लोगों की आवाज दबाती है।

लोकसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद सियासी बयानबाजी तेज हो गई। यूपी में महागठबंधन द्वारा कांग्रेस के खिलाफ दो सीटों पर उम्मीदवार नहीं उतारने के फैसले के जवाब में कांग्रेस ने राज्य की 7 सीटों पर उम्मीदवार नहीं उतारने का ऐलान किया था।

उन्होंने कहा कि नेताओं को इस महीने की 28 तारीख को इस्लामाबाद में संसद भवन में एक बैठक के लिए आमंत्रित किया जाएगा, जो कि पुलवामा के घटनाक्रम की पृष्ठभूमि में, आगे बढ़ने के रास्ते पर उनकी राय और मार्गदर्शन लेने के लिए कहेंगे।

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए उत्तर प्रदेश में हर सियासी मोड सामने आ रहा है। प्रदेश में कांग्रेस के सात सीटों के आॅफर बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती भड़क गई हैं। उन्होंने साफ कर दिया है कि बीजेपी को हराने किए सपा-बसपा का गठबंधन काफी है, ऐसे में कांग्रेस जबरदस्ती सीट छोड़ने का भ्रम न फैलाए।