kumbh news

जिसके बाद परिजनों ने राहत की सांस ली और वह भी घर को रवाना हो गए। आखिरकार कुंभ मेले में बने प्रशासनिक भूले भटके शिविर में एनाउंसमेंट बंद होने का मामला चर्चा का विषय बना रहा।

दिनांक 13, 14 एवं 15 को दोपहर 02 बजे से 07 बजे तक विभिन्न संतो एवं जनजाति प्रमुखों का मार्गदर्शन जनजातीय नृत्यों का प्रदर्शन किया जाएगा। 15 फरवरी को समापन कार्यक्रम सम्पन्न होगा।

वह लगातार मेले में अपने सेवा कार्य के लिए चर्चा में हैं चाहे सफाई हो या मतदान हर कार्य में बढ़चढ़ कर भागीदारी कर रहे हैं। इस मौके पर एम ए खान .दीपक भाटी. इस्तियाक. अजीत. कुलदीप .हरमन. दलजीत आदि युवा स्लोगन लिखे कार्ड लेकर चल रहे हैं।

समापन समारोह में बेस्ट स्वयंसेवक का पुरस्कार भी दिया गया। समापन समारोह में कार्यक्रम अधिकारी डॉ रविंद्र कुमार, डॉ बृजेन्द्र सिंह, डॉ बलराज कुमार, डॉ रूपेश त्रिपाठी ने स्वयंसेवकों को निर्देशित किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ शिवानंद सिंह ने किया।

इस अवसर पर परमार्थ निकेतन शिविर में दिनेश शाहरा, सुरेश शाहरा, नितेश शाहरा, सर्वेश शाहरा, मृदुला शाहरा, माधुरी शाहरा, महेश भागचन्द्रका, हर्ष भागचन्द्रका, सुनीता भागचन्द्रका, अमीशा शाहरा, हरीश कोलवाल, नरेद्र शाह, अरविन्द्र अग्रवाल, सन्ध्या खन्डेलवाल, अलका गुप्ता, और अन्य गणमान्य अतिथि मौजूद रहे। 

सभी ने भक्तिभाव में मग्न होकर मधुर भजनों का आनन्द लिया। भजन सुनकर ऐसा लग रहा था मानों संगम में डुबकी लगाने से शरीर का स्नान हुआ और भजनों को श्रवण कर आत्मा का स्नान हो गया। भजनों का श्रवण कर दुनिया के अनेक देशों के लोग भाव विभोर हो उठे।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती, , कथाव्यास अनुराग शास्त्री , साध्वी भगवती सरस्वती एवं भारत सहित आस्ट्रेलिया, पेरू, कोलम्बिया, अमेरिका, साइबेरिया, कनाडा, मलेशिया, नेपाल, नार्वे, स्पेन, इन्डोनेशिया, तिब्बत, कम्बोडिया, श्रीलंका, थाइलैंड, ब्राजील, जमर्नी, जापान, सिंगापुर, क्रोवाशिया, अर्जेन्टीना, मेक्सिको, हॉलैैण्ड विश्व के अन्य देशों से आये श्रद्धालुओं ने स्नान किया।

सुरक्षा व्यवस्था को लेकर जहॉ पुलिस के आला अधिकारी स्नान व शाही शोभा यात्रा के दौरान स्वयं उपस्थित रहे, वहीं फोर्स के जवान, पुलिस, वालंटियर्स, मजिस्ट्रेट आदि सचेत रहे। चप्पे-चप्पे पर पुलिस व्यवस्था सतर्क रही और स्नानार्थियों को स्नान करने के उपरान्त गंतव्य तक जाने हेतु दिशा निर्देश देते रहें।

बसंत पंचमी का यह शाही स्नान भी शांति और सुगमता के साथ सम्पन्न होकर कुम्भ 2019 के दिव्य एवं भव्य स्वरूप में एक नया अध्याय जुड गया।

जानकारी के मुताबिक बिजली के शार्ट सर्किट से आग लगी। कुंभ मेले की शुरुवात से लगातार आगजनी की घटना हो रही हैं। बता दें कि इसके पहले भी कुंभ क्षेत्र में कई बार आग लग चुकी है।