cbi

मध्य प्रदेश के चर्चित व्यापमं घोटाले की जांच कर रही केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई ने शनिवार को विशेष अदालत में 26 आरोपियों के खिलाफ आरोप दायर किया। व्यापम मामलों के लिए सीबीआई के विशेष अभियोजक सतीश दीनकर ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ जालसाजी, आपराधिक षड्यंत्र, भ्रष्टाचार निरोधक कानून, आईटी कानून और अन्य सम्बद्ध धाराओं में आरोप पत्र दाखिल किया गया।

केंद्र सरकार ने गुरुवार को सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को उनके पद से हटाकर सिविल एविएशन सिक्योरिटी ब्यूरो भेज दिया। उनके साथ ही ज्वॉइंट डायरेक्टर ए. के. शर्मा, डीआईजी एम. के. सिन्हा और जयंत नायकनवारे का कार्यकाल भी घटा दिया गया।

सीबीआई में जो तमाशा पिछले कुछ दिनों में देखने को मिला वो आजाद भारत का सबसे बुरा कारनामा कहा जा सकता है। सरकारी तोते के नाम से शोहरत बटोरते इस जांच एजेंसी ने कई मामलों में देश का नाम रौशन भी किया। लेकिन तोता सरकारी ही था। वहीं अब जो दाग सीबीआई पर लग गया है उसे धोने के लिए नए सीबीआई निदेशक का निर्णय 24 जनवरी को चयन पैनल करेगा।

इस मामले पर न्यायमूर्ति राजेंद्र मेनन एवं न्यायमूर्ति वीके राव की पीठ ने केंद्रीय जांच एजेंसी को भी नोटिस जारी किया। साथ ही उस याचिका पर जवाब मांगा जिसमें दलील दी गई कि ऐसी गतिविधियां ‘देश के लिए बहुत खतरनाक’ हैं।

इतना ही नहीं खड़गे ने बिना किसी देरी के, नए निदेशक की नियुक्ति के लिए चयन समिति की तत्काल बैठक बुलाने के लिए भी कहा है। उन्होंने यह भी दावा किया कि इस मामले में सरकार के कदमों से यही संकेत मिलता है कि वह नहीं चाहती कि सीबीआई एक स्वतंत्र निदेशक के तहत काम करे।

इससे पहले आलोक वर्मा को गुरूवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई वाले उच्चस्तरीय पैनल ने सीबीआई डायरेक्टर के पद से हटा दिया था।

सीबीआई में फिर से बवाल होना तय है। आपको बता दें जिन दो सीबीआई अफसरों का ट्रांसफर कार्यवाहक डायरेक्टर एम नागेश्वर राव ने किया था, अब वो भी सुप्रीम कोर्ट के दरवाजे पर दस्तक देने की तैयारी कर रहे हैं। ये दोनों कोर्ट के आदेश की अवहेलना का भी केस दर्ज करा सकते हैं।

चर्चित आईएएस बी चंद्रकला खनन मामले में जहां सीबीआई के निशाने पर हैं वहीं अब प्रवर्तन निदेशालय भी इस मामले में जांच शुरू कर सकता है। फिलहाल ईडी ने एफआईआर का परीक्षण शुरू कर दिया है। माना जा रहा है कि इस मामले में ईडी जल्द केस दर्ज कर जांच शुरू कर सकता है।

सीबीआई के निदेशक पद से हटाए जाने के बाद आलोक वर्मा ने अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया है। आलोक वर्मा ने सरकार को अपना इस्तीफा भेज दिया है। इससे पहले आलोक वर्मा ने डीजी फायर सर्विसेज एंड होमगार्ड का पद संभालने से इंकार कर दिया था।

सीबीआई के निदेशक पद से हटाए जाने के बाद आलोक वर्मा ने अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया है। आलोक वर्मा ने सरकार को अपना इस्तीफा भेज दिया है। इससे पहले आलोक वर्मा ने डीजी फायर सर्विसेज एंड होमगार्ड का पद संभालने से इंकार कर दिया था।