basant panchami

सुरक्षा व्यवस्था को लेकर जहॉ पुलिस के आला अधिकारी स्नान व शाही शोभा यात्रा के दौरान स्वयं उपस्थित रहे, वहीं फोर्स के जवान, पुलिस, वालंटियर्स, मजिस्ट्रेट आदि सचेत रहे। चप्पे-चप्पे पर पुलिस व्यवस्था सतर्क रही और स्नानार्थियों को स्नान करने के उपरान्त गंतव्य तक जाने हेतु दिशा निर्देश देते रहें।

बसंत पंचमी का यह शाही स्नान भी शांति और सुगमता के साथ सम्पन्न होकर कुम्भ 2019 के दिव्य एवं भव्य स्वरूप में एक नया अध्याय जुड गया।

कुंभ में वसंत पंचमी का तीसरा और अंतिम शाही स्नान की चल रहा है। श्रद्धालुओं ने शनिवार देर रात से ही स्नान आरंभ कर दिया था। मेला प्रसाशन के मुताबिक आज 2 करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं के डुबकी लगाने की संभावना है।

फोटो क्रेडिट: आशुतोष त्रिपाठी

मुख्यमंत्री ने कहा कि बसन्त पंचमी स्नान पर्व को सुचारु ढंग से सम्पन्न कराने के लिए प्रदेश सरकार ने सभी आवश्यक प्रबन्ध किये हैं। शाही स्नान समयबद्ध एवं सुव्यवस्थित ढंग से सम्पन्न हो, इसके लिए मेला प्रशासन सहित सभी सम्बन्धितों को आवश्यक निर्देश दिए गए हैं। श्रद्धालुओं की सुविधा, सुरक्षा एवं उनके प्रवास आदि की सभी व्यवस्थाएं की गयी हैं।

ऋतुओं का राजा कहे जाने वाला मौसम बसंत पंचमी खुशियां लेकर आता हैै सर्दियां सुहावनी होने लगती हैं, खेतों में पीली सरसों लहलहा उठती हैं। पेड़-पौधों में फिर से नई कलियां खिल उठती हैं और हर तरफ सकारात्मक माहौल हो उठता है। इसके साथ ही हर तरफ मां सरस्वती की पूजी की जाएंगी। आज से ही मथुरा में रंगोउत्सव शुरू हो जाता है।

सेक्टर 9, 10, 11, 12, 13, 14, 15, 16 व 17 में ई-रिक्शा का संचालन यथावत चालू रहेगा तथा सेक्टर 18, 19 व 20 में ई-रिक्शा व टैम्पों का संचालन चालू रहेगा।

आगामी कुछ दिनों बाद यूपी बोर्ड, सीबीएसई और आईसीएसई बोर्ड की वार्षिक परीक्षाएं शुरू हो जाएगी। इन परीक्षाओं को लेकर बोर्ड परीक्षार्थी काफी हद तक टेंशन में हैं,

जयपुर:ऋतुओं का राज बसंत ऋतु को माना जाता है। माघ शुक्ल पक्ष की पचंमी तिथि को बसंत पंचमी मनाई जाती है। इस दिन मां सरस्वती की पूजा-आराधना करने से विद्या, धन, वैभव सभी कुछ पाया जा सकता है। बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती का पूजन शुभ मुहूर्त में करना चाहिए। कहा जाता है कि …

लखनऊ:  बसंत पंचमी के दिन ज्ञान की देवी मां सरस्वती की पूजा होती है। माघ मास में शुक्ल पक्ष की पंचमी के दिन वसंत पंचमी का पर्व मनाया जाता है। इस साल ये पर्व 1 फरवरी को मनाया जा रहा है। इस दिन को मां सरस्वती के जन्मोत्सव के रूप में मनाते हैं। इस दिन …