गीतिका: अब छोड़ो भी तकरार प्रिये, क्यों नोंक झोंक हर बार प्रिये

0
259
रमा प्रवीर वर्मा

अब छोड़ो भी तकरार प्रिये

क्यों नोंक झोंक हर बार प्रिये

खुशियों की बारिश में भीगो

गम से हो क्यूँ बेज़ार प्रिये

ये धरती क्या ये अम्बर क्या

अपना सारा संसार प्रिये

औरों की बातें छोडो अब

जी लो अपना किरदार प्रिये

उम्मीदों की परवाज़ भरो

हर स्वप्न करो साकार प्रिये

हो त्याग समर्पण प्यार वफ़ा

इस जीवन का आधार प्रिये

जैसी करनी वैसी भरनी

ये सत्य करो स्वीकार प्रिये

loading...