अमा जाने दो : इश्क की तरह निकली नोटबंदी, कभी समझ न पाया

0
1916
नवलकांत सिन्हा

कन्फ्यूजन के एक साल पूरे हो गए हैं, लेकिन पता नहीं चला कि नोटबंदी से मुझे फायदा हुआ या नुकसान। दरअसल इधर मोदी एंड कंपनी ने फायदे गिना डाले, उधर सोनिया एंड कंपनी ने नुकसान। लेकिन हमरी बुद्धि में कुछ घुसे तब न। सो पहुंच गए बचपन में पढ़ाने वाले मास्टर जी के पास और पूछ लिया अपना सवाल।

मास्टर जी बोले कि बचपन में गणित पढ़ लेते तो कन्फ्यूजन न होता। नोटबंदी से पहले कितना पैसा था तुम्हारे पास? मैंने कहा, यही सौ-दो सौ। फिर पूछा कि नोटबंदी के बाद कितना बचा? मैंने कहा,सौ-दो सौ। फिर पूछा कि अब कितना है? मैंने बोला- सौ-दो सौ। बस गुरुजी खफा हो गए। बोले कि जब जेब में माल ही नहीं है तो सरकार क्या, शनिदेव भी तुम्हारा कुछ नहीं बिगाड़ सकते। पढ़लिख कर कहीं अफसर या इंजीनियर बने होते, घूस-वूस ली होती, तब नोटबंदी पर डिस्कस करते।

कसम से मेरे इश्क की तरह ही निकली है ये नोटबंदी। न उसे कभी समझ पाया और न इसे। शीला की याद आ गयी। अरे वो शीला की जवानी वाली नहीं, हमरे मोहल्ले वाली। साल दर साल गुजरे,लेकिन नहीं समझ सका था कि लाइन मिलती हैं कि नहीं। कन्फ्यू$जन तभी दूर हुआ, जब वो शादी के बाद बच्चों के साथ लौटी और हमें मामा बताया। अब गफलत पर दिल चिटकाने का क्या फायदा। सच तो यह है कि नोटबंदी का आशिकों ने फायदा उठाया।

ये भी पढ़ें… अमा जाने दो: तो लीजिये जीएसटी फ्री ‘टॉयलेट’ का मजा…

मैं तुझसे मिलने आई नोटबंदी के बहाने… लाइन में घंटों डेटिंग का लुत्फ और गिफ्ट न देने का बहाना भी। अब खजांचीनाथ को इस दुनिया में आना था तो लाइन में ही आ गए। दो दिसंबर को बर्थडे भी मनाएंगे। सोचिये जन्म के समय जितना राहुल गांधी और अभिषेक बच्चन पॉपुलर नहीं हुए, उससे ज्यादा खजांची जी हो गए और क्या चाहिए। तब के सीएम अखिलेश यादव से दो लाख भी पाए थे खजांची।

अब टीवी वाले दिखा रहे हैं कि नाम खजांची और आॢथक स्थिति ठीक नहीं। तो भैया, खजांची भी हमरी तरह निकले, न काला दिवस मना पाए और न काला धन विरोध दिवस।
सच तो ये है कि जिनके जीवन में सुखराम नहीं है वो शोक मना रहे हैं और जिनके जीवन में सुखराम आ गया है, वो जश्न। सुख-आराम चीज ही ऐसी है और फिर जिससे इश्क किया है, उस बंदी को छोड़ दो तो सभी बंदियां कष्ट देती हैं। आपातकाल में नसबंदी, मुंहबंदी, दिवाली पर पटाखाबंदी, आजकल दिल्ली में खुले में सांसबंदी। लेकिन हमसे क्या, हम तो यही कहेंगे अमा जाने दो।

SHARE
Previous articleगज़ल : गमे-इश्क तो अपना रफीक रहा, कोई और बला से रहा-न-रहा
Next articleरूठों को मना लिया गया है, जीतेंगे निकाय चुनाव- BJPप्रदेश अध्यक्ष

प्रदीप कुमार पाल गत 09 वर्षों से पत्रकारिता जगत में कार्यरत हैं। इन्होने हिन्दी दैनिक ‘लोकमत’ से उप सम्पादक के रूप में अपना पत्रकारिता का कॅरियर प्रारम्भ किया था। इसके बाद हिन्दी दैनिक ‘हाईटेक न्यूज’, ‘अवधप्रान्त’ में वरिष्ठ उप सम्पादक के पद पर कार्यरत रहे हैं। साप्ताहिक हिन्दी अखबार एवं मासिक पत्रिका ‘ग्राम्य संदेश’ में प्रदीप ने मुख्य समाचार सम्पादक के पद पर कार्य किया है। अखबार के अलावा प्रदीप कई अन्य पाक्षिक एवं मासिक पत्रिकाओं में भी कार्यरत रहे हैं। एक वर्ष की रिपोर्टिंग के साथ-साथ प्रदीप को डेस्क के कार्य का अच्छा अनुभव है।