मंगल दिनों की अनोखी धरोहर हैं अवधी और भोजपुरी लोक गीत, हैं संस्कृति का मूल

0
536
अवधी और भोजपुरी लोक गीत
अवधी और भोजपुरी लोक गीत
1 of 2
Dr mamta tripati

मंगल मास के आरंभ के दिन आ रहे हैं। पितृ पक्ष में पितर पूज कर दशहरे में शक्ति की साधना। ठीक बीस दिन के बाद दिया बाती। दूसरे दिन गोधन कुटान। यही से मंगल दिन शुरू। लोक में इन मंगल दिनों का बहुत महत्व है। कार्तिक के महीने को इसीलिए मंगल मास भी कहा जाता है। लोक जीवन के सभी मांगलिक अनुष्ठान यही से गति पाते हैं और यही से लोक साहित्य को मिलते हैं उसके प्राण तत्व। लोक साहित्य की अथाह राशि अब तक हमारे समाज में केवल श्रुति स्वरूप में ही रही है। वे चाहे लोक गीत हो या संस्कार गीत।

सभी केवल पीढ़ी दर पीढ़ी श्रुत रूप में ही स्थानांतरित होते रहे हैं। आधुनिक साहित्य के कुछ रचनाकारों ने इन्हें लिपिबद्ध करने की कोशिश जरूर की है लेकिन वह बहुत मामूली ही रहा है। लोक साहित्य का फलक स्वयं में बहुत विशाल है। यहां भोजपुरी और अवधी के लोकगीतों को लेकर कुछ प्रसंग सामने ला रहे हैं।

वैसे यह विदित है कि लोकगीतों की परंपरा मौखिक है। आज जो भी हम अध्ययन-चिंतन, मनन-लेखन कर रहे हैं। वह हमारी श्रुत-परंपरा पर ही आधारित है, जो अपनी नानी, दादी, मां से सुना है, उसे ही तो लिपिबद्ध कर पा रहे हैं। आवश्यक भी है कि हम लोकगीतों की निर्मल धारा की निरंतरता को बनाये रखें क्योंकि यही हमारी संस्कृति की मूल है। यह अनेक परंपराओं व विश्वासों की संस्कृति है, जो युगों से लोक चेतना में प्रवाहित होती आई है। इन लोकगीतों के माध्यम से लोक मानस, ग्रामीण जनसमुदाय, अपने जीवन की विषमताओं, दु:खों को अभिव्यक्त कर न केवल उनसे मुक्ति पाते है बल्कि जीवन के लिए अतिरिक्त ऊर्जा भी पाते हैं।

यह भी पढ़ें … http://अमा जाने दो : अरे सरकार! आपने ही कर दिया पानी-पानी

अवधी और भोजपुरी के लोकगीतों को एक साथ लिखने का कारण यह है कि दोनों बोलियों में भाषा का अंतर तो अवश्य है किंतु रीति रिवाजों, परंपराओं, धर्म, जातियों एवं संस्कृति में अंतर नहीं है जिसके आधार पर लोकगीतों के प्रकार बदला करते हैं। जहां ये दोनों बोलियां मिलती हैं, वहां से लेकर दोनों छोर तक बोलियों का भारी अंतर हो जाता है। पर गीतों के प्रकार में काफी साम्य है। संस्कार के गीतों में सोहर, मुंडन, कनछेदन, जनेऊ, विवाह एवं गौना (बहू विदाई) के गीत दोनों क्षेत्रों में गाए जाते हैं।

जातीय गीतों में एक गीत बिरहा है जिसे अहीर जाति के लोग गाते हैं। कुछ बिरहे लंबे होते हैं और कुछ दो दो, चार चार पंक्तियों के छोटे बिरहे होते हैं। ऐसे बिरहों को पितमा कहते हैं। लंबे बिरहों में वीर अथवा शृंगार रस की प्रधानता होती है। पौराणिक आख्यानों, वीर चरित्रों पर भी बिरहे होते हैं। डोली ढोते समय कहारों के कंहरवा गीत श्रमगीत का काम करते हैं और विवाह शादी तथा कुछ उत्सवों में नृत्य के साथ कहरवा गाया जाता है। धोबियों के गीत बिरहे से मिलते जुलते हैं। ये लोग भी नाच के साथ गीत गाते हैं।

आगे की स्लाइड में पढ़ें पूरी खबर

1 of 2