सोशल मीडिया साइट्स पर जर्मनी ने कसा शिकंजा, उठाये सख्त कदम

0
172

लखनऊ : सोशल मीडिया पर ‘हेट स्पीच’ यानी वैमनस्य बढाने वाली पोस्ट सिर्फ भारत ही नहीं पूरी दुनिया में सभी के लिए सर दर्द बनी हुयी है। भारत में सभी वाकिफ हैं कि किस तरह धार्मिक भावनाएं भडक़ाने, लोगों को उकसाने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया जाता है। सोशल मीडिया साइट्स यह कह कर पल्ला झाड़ लेती हैं कि कार्रवाई करनी है तो पोस्ट डालने वाले पर की जाये।

अब जर्मनी ने सोशल मीडिया साइट्स की जिम्मेदारी तय करने के लिए एक सख्त कदम उठाया है। जर्मनी में ऑपरेट करने वाली सोशल मीडिया कम्पनीज के लिए एक कानून ‘नेत्ज डीजी’ बना दिया गया है कि अगर किसी गैरकानूनी, नस्लवादी या किसी को बदनाम करने वाली पोस्ट अगर 24 घंटे के भीतर डिलीट नहीं की जाती है तो उस कंपनी पर 57 मिलियन डालर तक का जुरमाना ठोंक दिया जाएगा।

यह कानून 1 जनवरी 2018 से प्रभावी हो गया है। यूं तो ‘नेत्ज डीजी’ अक्टूबर से लागू है लेकिन सरकार ने कंपनियों को तीन महीने का ग्रेस पीरियड दिया था ताकि वे अपने यहाँ शिकायत प्रबंधन सिस्टम इंस्टाल कर लें।