ऑडियो : SHO की सलाह ‘एनकाउंटर से बचना है, BJP नेताओं से करो डील’

0
163

लखनऊ : यूपी में अपराधियों और पुलिस के बीच चोली दामन के साथ साथ याराने का खुलासा करने वाला ऑडियो सामने आया है। ऑडियो न सिर्फ पुलिस और अपराधियों की मिलीभगत की पोल खोल दी, बल्कि ताबड़तोड़ एनकाउंटर पर उठते सवालों को और हवा दी है। योगी राज में पिछले एक साल में एक हजार से ज्यादा एनकाउंटर हो चुके हैं। इस दौरान चार दर्जन से ज्यादा अपराधियों के मारे जाने का दावा है। नोएडा और गाजियाबाद जैसे एनकाउंटर पर सवाल भी उठते रहे हैं। पुलिस एनकाउंटर पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग राज्य सरकार को नोटिस जारी कर चुका है। अब झांसी में पुलिस इंस्पेक्टर और शातिर अपराधी के बीच बातचीत के ऑडियो क्लिप ने पुलिस एनकाउंटर पर गंभीर सवाल खड़े कर दिए हैं।  

ये भी देखें :रेप के आरोपी BJP MLA और पीड़िता के चाचा का ‘ऑडियो’ हुआ वायरल

झांसी की मऊरानीपुर कोतवाली पर कोतवाल सुनीत कुमार सिंह और जिले के शातिर अपराधी लेखराज सिंह के बीच हुई बातचीत का ऑडियो क्लिप सामने आया है। जिस में इंस्पेक्टर अपराधी को भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष और विधायक से सेटिंग करने की सलाह देता सुना जा सकता है। दर्जनों हत्या, अपहरण और जबरन वसूली के मामलों में अपराधी लेखराज यादव शामिल रहा है। ऑडियो क्लिप में इंस्पेक्टर ने अपराधी को यह भी जानकारी दी है, कि जिले में होने वाले मुठभेड़ों की हिट-लिस्ट में सब से ऊपर उसी का नाम है। 

ये भी देखें : BJP के संगठन मंत्री ने अपने ही नेता पर किया गुस्सा, ऑडियो वायरल

ऑडियो क्लिप में इंस्पेक्टर खुद को भी पुराना अपराधी बता रहा है। 8 मिनट 33 सेकंड की इस क्लिप में अपराधी कोतवाल को यार जब कि कोतवाल अपराधी को सर कह कर सम्बोधित कर रहा है। नौकरी को जूते की नोक पर बताने वाला इंस्पेक्टर पूर्व में बर्खास्त भी हो चुका है। ऑडियो क्लिप सामने आने के बाद एसएसपी झांसी विनोद कुमार सिंह ने इंस्पेक्टर मऊरानीपुर सुनीत कुमार सिंह को निलम्बित कर दिया है। 

इंस्पेक्टर मऊरानीपुर और अपराधी लेखराज के बीच हुई बातचीत  

अपराधी लेखराज यादव – अरे मदद करो यार मदद करो।
इंस्पेक्टर सुनीत कुमार सिंह – अब हम आप मेरी मजबूरी समझिए, ठीक। मैंने आपको बता दिया है, संजय दूबे जिला अध्यक्षराजीव सिंह परीछा, दो-दो आदमियों को मैनज करिए।
अपराधी लेखराज यादव –  अरे सुनीत सिंह किसी से कम है यार क्या।
इंस्पेक्टर सुनीत कुमार सिंह – अरे नहीं, आप मेरी बात सुनिए- मेरी बात सुनिए प्लीज़, आप मेरी बात समझिए।
अपराधी लेखराज यादव – तो तुम्हे क्या डाकखाने ही भेज देंगे क्या (डाकखाने का तात्पर्य पुलिस लाइन से है)
इंस्पेक्टर सुनीत कुमार सिंह –  भद्दी भादि गालियां अफसरों और नेताओं को
अपराधी लेखराज यादव – इतने बहादुर आदमी को क्या डाकखाने ही भेज देंगे इंस्पेक्टर बना कर।
इंस्पेक्टर सुनीत कुमार सिंह –  अरे हम लोग तो अपराधी रहे शुरू से और रहेंगे। ज़िन्दगी भर अपराध किये। जहां जितने चाहे मार कर फेंक दिए। …….. गालियां। जाने कितनी हत्याएं की हैं जाने कितनी बार जेल गए हमारा पूरा सिस्टम है अपने पास। लेकिन सब निपट गया अपना माता रानी की कृपा से, देखिये हम लोग, हमारा इतिहास बहुत खराब है अब भविष्य अच्छा है बस यह कहना है।
अपराधी लेखराज यादव – अब हमारी मदद करो बस यूं है ।
इंस्पेक्टर सुनीत कुमार सिंह – अरे मदद आप की मदद ऊपर वाला कर रहा है, मेरी बात समझो मेरी बात समझो, आप बढ़िया आदमी हो आप सिस्टम वाले आदमी हो।
अपराधी लेखराज यादव – आप इतने दिन हो कोई गलत काम है हमारा। 
इंस्पेक्टर सुनीत कुमार सिंह – गलत काम कहीं कुछ नहीं होता है। पिछले 14 वर्षो में भाजपा से पहले कितने एनकाउंटर हुए ज़िलेप्रदेश भर मेंनहीं हुए… बसपा आईसपा आई सब. अब सिस्टम चल रहा है. आप समझ ही नहीं रहे कोई चीज़ को। दौर है।  दौर तो दौर ही होता है फिर तो फिर झोको तो झोको। अब सिस्टम ऊपर से है। यहां नीचे ऊपर सब एसटीएफ भी है। सब लगे हैं पूरी टीम है। सर्विलांस पर अलग नंबर है आप का आपकी लोकेशन ट्रेस आउट हो रही है। और 10-20-50 आदमी भी अगर आपके साथ होंगे तो कोई बड़ी बात नहीं है। होशियार वही होता है जो समय के हिसाब से ढाल लेता है चीज़ों को। आप समझिए आप समझदार आदमी हैं। आप पर 60 मुक़दमे हैं आप यूपी के सब से फिट केस है।
अपराधी लेखराज यादव – अरे मुझे मरना थोड़ी है यार।
इंस्पेक्टर सुनीत कुमार सिंह – अरे जो भी मामला है उसे देख दिखाकर, जो भी कर सकते हो जैसे भी मैनेज कर लो लंबी पंचायत फंसेगी फिर, फिर हम भी कुछ नहीं कर पाएंगे। यह राजकाज है।

सुनीत सिंह का दामन है दागदार 

इंस्पेक्टर सुनीत कुमार सिंह और अपराध का चोली दामन का साथ रहा है लखनऊ में तैनाती के दौरान चोरी की इंडिका कार के साथ कोलकाता पहुंचे डांस बार में विवाद के बाद अंधाधुंध फायरिंग की थी इस मामले में मुकदमा दर्ज हुआ और सुनीत 4 महीने जेल में भी रहे तत्कालीन डीजीपी विक्रम सिंह ने सुनीत को 25 अगस्त 2007 में बर्खास्त कर दिया था हाईकोर्ट से बहाली के बाद सुनीत कुमार की तैनाती झांसी रेंज के जालौन जिले में हुई थी थाना सिरसाकलार में दलित महिला प्राइवेट फालोवर ने इनके खिलाफ अप्राकृतिक यौन शौषण का मामला भी दर्ज करवाया था

सुनीत के खिलाफ थाना सिरसाकलार जालौन में हत्या का मुकदमा भी दर्ज है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here