जानिए क्यों राजस्थान सरकार ने अफसरों को दी कम खर्च करने की सलाह!

आर्थिक संकट से जूझ रही अशोक गहलोत सरकार ने सरकारी खर्च कम करते हुए सादगी के साथ आगे बढ़ने का निर्णय किया है। इसके तहत वित्त विभाग द्वारा आदेश जारी किया गया है। इस आदेश में सरकारी विभागों से खर्च कम करने के निर्देश देने के साथ ही कई सुझाव भी दिए गए है।

जयपुर: आर्थिक संकट से जूझ रही अशोक गहलोत सरकार ने सरकारी खर्च कम करते हुए सादगी के साथ आगे बढ़ने का निर्णय किया है। इसके तहत वित्त विभाग द्वारा आदेश जारी किया गया है। इस आदेश में सरकारी विभागों से खर्च कम करने के निर्देश देने के साथ ही कई सुझाव भी दिए गए है।

ये भी पढ़ें…जयपुर की सड़कों पर इस हाल में दिखे ऋतिक रोशन, सोशल मीडिया पर वायरल हुई तस्वीर

जानकारी के मुताबिक वित्त विभाग की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि राज्य में समाज के सभी वर्गों का संपूर्ण विकास जरूरी है। सभी समाजों के विकास के लिए बड़ी धनराशि खर्च होती है। राज्य के बेहतर विकास के लिए वित्तीय अफसरों पर वित्तीय अनुशासन के साथ ही इसके प्रबंधन की जिम्मेदारी है।

ये भी पढ़ें…राजस्थान : बाल विकास मंत्री ममता भूपेश का विवादित बयान, कहा- पहला काम हमारी जाति के लिए

इस आदेश में विभागों को खर्च कम करने को लेकर कई सुझाव भी दिए गए है, जिसमें प्रमुख रूप से विभागीय स्तर पर हर साल होने वाले बड़े आयोजनों में कमी लाने, गाड़ियों के काफिले में कमी करने के साथ ही सरकारी कार्यक्रम में कम खर्च करने की नसीहत दी गई है। सूत्रों का कहना है कि सरकार बनने के बाद हाल में सीएम अशोक गहलोत ने खर्च कम करने को लेकर सुझाव मांगा था, जिसके बाद यह आदेश जारी हुआ है।

राजस्थान सरकार के विज्ञापनों में अब मुख्यमंत्री अथवा मंत्री में से किसी एक का फोटो छपेगा। सरकार की प्रचार सामग्री और पम्पलेट्स में भी एक ही फोटो छापा जाएगा। इस बारे में प्रदेश के मुख्य सचिव डी.बी.गुप्ता ने सभी विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिए है।

ये भी पढ़ें…राजस्थान : बाल विकास मंत्री ममता भूपेश का विवादित बयान, कहा- पहला काम हमारी जाति के लिए