लखनऊ : रियो ओलपिंक में शानदार प्रदर्शन करने वाली सिमोन बिल्स को कोई कैसे भूल सकता है। 2016 के रियों ओलपिंक में 4 स्वर्ण सहित कुल 5 पदक जीतनें वाली सिमोन ने एक बार जिमनास्ट में शानदार वापसी की है। लेकिन इस बार उनकी ये वापसी आसान नहीं थी।

यह भी पढ़ें …..जिमनास्ट दीपा कर्माकर और शूटर जीतू राय ने PM मोदी से की मुलाकात

दो बार चोट लगने और पथरी होने के बाद भी सिमोन ने वर्ल्ड जिमनास्ट चैम्पियनशिप में हिस्सा लिया। इस बार उन्होंने चौथी बार खिताब जीतकर इतिहास में नाम दर्ज करा लिया। वो ये खिताब जीतने वाली पहिला महिला बन गई है। दोहा में वर्ल्ड टाइटिल के साथ ही सिमोन ने 2013,14,15 में भी ये करिश्मा किया था। चोटों से जूझने के बाद भी उनकी ये उपलब्धि खेल में उनकी निरंतरता और क्षेष्ठता को दर्शाता है।

यह भी पढ़ें …..बर्थडे पर जिमनास्ट दीपा को कोच ने किया सबसे दूर, कहा- गोल्ड जीतकर मनाना जश्न

बिल्स ने ओलपिंक के एक साल बाद खेलों में वापसी की थी। कतर में चैम्पियनशिप से एक हफ्तें पहले उन्हें पथरी के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था। अभी उनकी पथरी ठीक भी नहीं हुई थी, लेकिन सिमोन ने फिर भी प्रतियोगिता में हिस्सा लिया और वर्ल्ड चैम्पियनशिप जीती। सिमोन ने प्रतियोगिता जीतने के बाद कहा कि किडनी में पथरी होने को मैं अगर चुनौतीपूर्ण मानती तो इस चैम्पियनशिप में कभी हिस्सा नही लेती।