इन तीन दिन सैलानी देख सकेंगे शाहजहां-मुमताज की असली कब्रें, प्रवेश रहेगा निःशुल्क

आगरा: दुनिया भर को मोहब्बत की निशानी ताजमहल देने वाले शहंशाह शाहजहां के उर्स को ताजमहल में तैयारियां शुरू हो गई हैं। इस बार उर्स 23 से 25 अप्रैल तक मनाया जाएगा। जहां उर्स के दोरान ताज में प्रवेश निःशुल्क रहेगा। वहीं सैलानियों को शाहजहां और मुमताज की तहखाने में स्थित असली कब्रों का दीदार करने का मौका मिलेगा। ये कब्रें साल में केवल उर्स के दौरान ही पर्यटकों के लिए खोली जाती हैं।

ताज में असली कब्रें देखने का मौका सैलानियों को नहीं मिल पाता। वह मुख्य गुंबद में ऊपर बनी कब्रों की प्रतिकृति ही देख पाते हैं। ये कब्रें केवल शहंशाह शाहजहां के उर्स में ही खुलती हैं। इस बार ताजमहल में 23 अप्रैल से 25 अप्रैल तक मनाए जाने वाले शाहजहां के उर्स में असली कब्रें खुलेंगी। एक-दो दिन में उर्स कमेटी की बैठक होगी, जिसमें व्यवस्थाओं को अंतिम रूप दिया जाएगा।

आज संरक्षित स्मारकों में प्रवेश पर नहीं लगेगा शुल्क
शहंशाह शाहजहां का उर्स 23 अप्रैल को दोपहर दो बजे के बाद गुस्ल की रस्म से शुरू होगा। 24 अप्रैल को संदल चढ़ाया जाएगा। पच्चीस अप्रैल को ताज में चादरपोशी और पंखे चढ़ाए जाएंगे। उर्स में पहले व दूसरे दिन दोपहर दो बजे से सूर्यास्त तक और अंतिम दिन सूर्योदय से सूर्यास्त तक ताज का दीदार पर्यटकों के लिए निःशुल्क रहेगा।

Loading...
loading...


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App