नई दिल्ली: राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू ने नवनिर्वाचित उपसभापति हरिवंश के सम्मान में शुक्रवार को सुबह के भोज का आयोजन किया है। लेकिन कांग्रेस ने इस भोज में शामिल नहीं होने का फैसला किया है। उपसभापति चुनाव में मिली करारी हार के बाद कांग्रेस ने यह फैसला किया है। इस चुनाव से आगामी लोकसभा चुनाव में विपक्ष के महागठबंधन पर भी सवालिया निशान उठ खड़े हुए हैं।

उपसभापति चुनाव में विपक्षी गठबंधन को करारा झटका
उपसभापति के चुनाव में कांग्रेस समेत विपक्षी गठबंधन को करारा झटका लगा हैराज्यसभा में विपक्षी दल बहुमत में होने के बाद भी उनका प्रत्याशी बीके हरिप्रसाद एनडीए प्रत्याशी हरिवंश के हाथों हार गए जनता दल (यू) के सांसद राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार के रूप में राज्यसभा के उपसभापति चुने गए। हरिवंश के उपसभापति चुने जाने पर सभापति वेंकैया नायडू ने उनके सम्मान में शुक्रवार की सुबह भोज का आयोजन किया है इस भोज में शामिल होने के लिए राज्यसभा के सभी दलों को आमंत्रित किया गया हैलेकिन कांग्रेस ने इस भोज में शामिल नहीं होने का फैसला किया है
बता दे कि उपसभापति पद के लिए गुरुवार को मतदान हुआ था हरिवंश ने विपक्ष के उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को 20 वोटों से हराया हरिवंश को 125 और हरिप्रसाद को 105 वोट मिले

ये भी पढ़ें…मॉनसून सत्र में उपसभापति पद के लिए विपक्ष एक बार फिर दिखाएगा ताकत

मोदी सरकार के खिलाफ नहीं दिख पाई एकजुटता
2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले उपसभापति के चुनाव में विपक्षी दलों को मिली हार से साफ हो गया है कि मोदी सरकार के खिलाफ एकजुट होने का दावा करने वाले विपक्षी दल राज्यसभा के एक छोटे से चुनाव में ही एकजुट नहीं हो पाए तो लोकसभा जैसे बड़े चुनाव में वे एक कैसे होंगे विपक्षी दलों के दावे उस समय फेल होते देखे गए जब बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए के सभी सदस्य सदन में मौजूद थे लेकिन कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के दो-दो सदस्य अनुपस्थित थे डीएमके के दो सदस्य भी सदन में मौजूद नहीं थे वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के दो सदस्यों ने मतदान में हिस्सा नहीं लिया। 

ये भी पढ़ें…मानसून सत्र का आखिरी दिन आज, संशोधित ट्रिपल तलाक बिल राज्यसभा में होगा पेश

हरिवंश को मिले थे 125 मत
उच्च सदन में पीडीपी के दो सदस्य और आप के तीन सदस्य हैं लेकिन उन्होंने मतदान में हिस्सा नहीं लिया सपा का एक सदस्य अनुपस्थित था बीजेडी और टीआरएस ने एनडीए उम्मीदवार का समर्थन कियामतविभाजन के बाद हरिवंश को उच्च सदन का उपसभापति घोषित किया गया। उन्हें विपक्ष की ओर से कांग्रेस के उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को मिले 105 मतों के मुकाबले 125 मत मिले थे। हरिवंश के पक्ष में जेडीयू के आरसीपी सिंह, बीजेपी के अमित शाह, शिव सेना के संजय राउत और अकाली दल के सुखदेव सिंह ढींढसा ने प्रस्ताव किया था 244 सदस्यीय सदन में मतदान में 232 सदस्यों ने हिस्सा लिया एनडीए प्रत्याशी हरिवंश को 125 वोट मिले और विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद को 105 वोट मिले