बौद्धिक उपलब्धि का अपना अनुभव देने के लिए वापस समाज में लौटें

प्रदीप कुमार सिंह

बौद्धिक होने का तात्पर्य यह है कि हम अपने पारिवारिक दायित्वों से पूर्णतया मुक्त होने के बाद अपनी बौद्धिक उपलब्धि का अनुभव समाज को देने के लिए वापस समाज में लौट आएं। अनेक महापुरुषों के उदाहरण हमारे सामने हैं जिन्होंने अपने जीवन की सफल यात्रा के अंतिम पड़ाव पर पीछे लौट कर अपनी परम उपलब्धि के अनुभव से समाज को बौद्धिक रूप से ऊँचा उठाया है। समाज के परम बौद्धिकों से मेरी अपने समाज में वापस लौटने की अपील है। परम बौद्धिकों के लम्बे अनुभव को पाकर समाज अत्यधिक लाभान्वित तथा सदैव ऋणी रहेगा। यही समाज तथा संसार तथा प्रकृति के ऋण से मुक्ति का सबसे सरल उपाय है। आपका जीवन बौद्धिक समाज की उभरती हुई प्रतिभाओं के लिए सदैव आदर्श स्वरूप रहेगा।

कैसे आप शिक्षा में आगे बढ़े, किस विचार से कैरियर चुना, कैसे पारिवारिक दायित्वों को सफलतापूर्वक पूरा किया, कैसे उपलब्धियां प्राप्त कीं, कैसे जीवन में आई बाधाओं में से रास्ता बनाया? समाज इसके बारे में जानकर फूल की तरह पूरी तरह खिल जाएगा। आप बौद्धिक जगत के असली विजेता हैं, आपने अपने जीवन का लक्ष्य सदैव बड़ा रखा और छोटे-छोटे नपे-तुले कदम बढ़ाकर बौद्धिक तथा सामाजिक जगत की सर्वोच्च ऊंचाइयों में अपना मुकाम बनाया है। आपकी तरह जो भी अपने काम को इज्जत देते हैं, वह जानते हैं कि हर छोटा कदम उनके बड़े प्रयास का एक हिस्सा है। आपने परम बौद्धिक के रूप में समाज में अपनी अलग पहचान बनाकर समाज को गौरवान्वित किया है।

महापुरुषों के लोक कल्याणकारी कार्यों से सीख लेना अत्यन्त कठिन है लेकिन असम्भव नहीं है। हम उतना ही समझ सकते हैं जितनी हमारी समझ है। हम उन महान समाज सुधारकों की उस अनुभूति को कैसे समझेंगे जिस अनुभूति को समझने की हमारी मानवीय सोच तथा मानवीय प्रेम से भरा हृदय नहीं है। हम जब मानव कल्याण की पवित्र भावना से अपनी नौकरी या व्यवसाय करेंगे तब वहां पहुंचेंगे जहां कभी महान समाज सुधारक पहुंचे हैं। विचार की शक्ति अद्भुत है, लेकिन पर्याप्त नहीं है। व्यक्ति मात्र अच्छा विचार करने भर से लोक कल्याण से भरे किसी लक्ष्य पर नहीं पहुंचता है। वह एक कोरा बौद्धिक, कोरा विचारक, भटका हुआ वैज्ञानिक तथा कोरा दार्शनिक बनकर रह जाता है। आज समाज में अनेक व्यक्ति अच्छे तो हैं लेकिन समाज के हित की दृष्टि से अनुपयोगी हैं।

विचार से आगे बढक़र उसे कार्य रूप में बदलने तथा आचरण में लाने से ही कोई बड़ी उपलब्धि प्राप्त की जा सकती है। विचार के साथ लोक कल्याणकारी विकल्प रहित संकल्प भी जुड़ा होना चाहिए। मन रूपी दर्पण के ऊपर जमी धूल के कारण उस मैले दर्पण में हम अपना बौद्धिक क्षमताओं से प्रकाशित वास्तविक स्वरूप साफ-साफ नहीं देख पाते हैं। एक प्रेरणादायी गीत की पंक्तियां इस प्रकार हैं – ‘तोरा मन दर्पण कहलाए भले-बुरे सारे कर्मों को देखे और दिखाए..।’ एकमात्र समाज कल्याण की पवित्र भावना से अपनी नौकरी या व्यवसाय करने तथा समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने से मन पर जमी धूल साफ होती है। विचार क्रांति के द्वारा समाज के अज्ञान रूपी अन्धकार को समयानुकूल विचारों के प्रकाश से प्रकाशित करना है।

भारत रत्न डा. अम्बेडकर के अनुसार विचारों में आग से भी अधिक गर्मी होती है। कोई भी मानव कल्याणकारी विचार प्रचार और प्रसार के अभाव में मर जाता है। विचार परिवर्तन ही हर परिवर्तन का मूल है। संसार में सभी बड़ी वैचारिक क्रांति बड़े विचारों के कारण हुई हैं। आज बौद्धिक व्यक्तियों की उपलब्धि के अनुभव को सर्वजन सुलभ बनाने का समय आ गया है। किसी नए विचार को कार्य रूप में बदल देने का रास्ता चुनौतीपूर्ण है। एक नया विचार यदि समाज द्वारा स्वीकार होता है तो बौद्धिक गुणों से युक्त व्यक्ति सामाजिक तथा आर्थिक परिवर्तन में बहुत बड़ा योगदान करता है।

(लेखक स्वतंत्र पत्रकार हैं)