दीपांकर जैन
नोएडा:
आरुषि की मौत का शोक मनाने तक का समय तक नहीं मिला। एक मां-बाप को अपने आप को बेकसूर साबित करने में 9 साल का लंबा समय लग गया। 9 साल से एक भी त्योहार नहीं मनाया। आलम कभी खुशी कभी गम का है। लेकिन इस बार परिवार के साथ दीपावली का सेलीब्रेशन किया जाएगा। दिए भी जलाए जाएंगे रिश्तेदारों को भी बुलाया जाएगा। बस, कमी आरुषि की रहेगी। जलाए जाने वाले दीपकों की चमक ही हमारे दिलों में आरुषि की आहट को हमेशा जगाए रहेगी। बर्शेते अब तक कानून के हाथों से आरुषि के कातिल दूर हैं इसका गम हमें सताता रहेगा।

ये बातें, आरुषि तलवार के नाना और रिटायर्ड ग्रुप कैप्टन बीडी चिटनस ने newstrack.com से विशेष बातचीत में कही।

ये भी पढ़ें …आरुषि को मिला अधूरा न्याय, आखिर किसने की हत्या?

सवाल: क्या जेल से आने के बाद नुपुर व राजेश नोएडा में रहेंगे या कहीं और?

बीडी चिटनस: इतने संघर्ष के बाद शायद ही आरुषि के माता-पिता दोबारा नोएडा आना चाहेंगे। वो यहां नहीं आएंगे। दिल्ली में ही हौज खास स्थित मकान में अपने भाई के साथ रहेंगे। जेल में इतना लंबा समय सिर्फ आरुषि आरूषि की याद में बिता देना अपने आप में ही एक संघर्ष है। अपने गम को किताबों और कविताओं में लिखना। ऐसा दुख का पहाड़ शायद ही किसी मां-बाप को मिला हो। न्यायपालिका पर शुरुआत से भरोसा रहा। जिसका परिणाम अब सामने आया। हाइकोर्ट का फैसले का शुक्रिया।

ये भी पढ़ें …आरुषि केस: पड़ोसियों ने कहा- देर से ही सही इंसाफ मिला, लेकिन सवाल अब भी बरकरार

सवाल: आरुषि का कातिल कौन है, उसे कब सजा मिलेगी?

बीडी चिटनस: यह सवाल सुनते ही आरुषि के नाना भावुक हो गए। उन्होंने कहा, कि जांच एजेंसियों की सुई सिर्फ नुपुर और राजेश पर ही टिकी रही। लेकिन असली कातिल कौन है। इसके बारे में अब भी किसी को नहीं पता। ‘हू किल्ड आरुषि’! यह जानना और उसका पकड़ा जाना बेहद जरूरी है। जब तक उसका कातिल पकड़ा नहीं जाता आरुषि का इंसाफ अधूरा ही रहेगा।

ये भी पढ़ें …आरुषि-हेमराज हत्याकांड: देश की सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री आज भी अनसुलझी

आगे स्लाइड में पढ़ें और क्या कहा आरुषि तलवार के नाना ने …