जानिये क्या है धारा 35A, क्यों मचा है इसे लेकर बवाल

0
281
जानिये क्या है धारा 35A, क्यों मचा है इसे लेकर बवाल
1 of 6
Vinod Kapoor

लखनउ: जम्‍मू-कश्‍मीर में धारा 35A हटाने की बात भर पर बवाल मचा हुआ है। कट्टरप‍ंथियों के साथ-साथ नेशनल कांफ्रेंस और और बीजेपी के साथ सत्ता में साझेदार पीडीपी को भी ये बात हजम नहीं हो पा रही है ।

नेशनल कांफ्रेंस अध्यक्ष और लोकसभा सांसद फारूक अब्दुल्ला ने तो यहां तक कह दिया है कि संविधान की धारा 35A को रद्द किए जाने पर ‘जनविद्रोह’ की स्थिति पैदा होगीं जम्मू कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती भी कही चुकी हैं कि यदि धारा 35 ए को हटाया गया तो घाटी में हालात को संभालना मुश्किल होगा । वो इस मामले में पीएम नरेंद्र मोदी के सामने भी शुक्रवार को अपनी बात रख चुकी हैं । उनके दावे के अनुसार, पीएम ने भरोसा दिलाया है कि इससे कोई छेड़छाड़ नहीं की जाएगी ।

संविधान में जिक्र नहीं

शुरूआती दौर में संविधान में जगह नहीं पाने वाला अनुच्छेद 35A  जम्मू-कश्मीर की विधान सभा को यह अधिकार देता है कि वह ‘स्थायी नागरिक’ की परिभाषा तय कर सके। दरअसल, संविधान के अनुच्छेद 35A को 14 मई 1954 को राष्ट्रपति के आदेश से संविधान में जगह मिली थी।  संविधान सभा से लेकर संसद की किसी भी कार्यवाही में, कभी अनुच्छेद 35A को संविधान का हिस्सा बनाने के संदर्भ में किसी संविधान संशोधन या बिल लाने का जिक्र नहीं मिलता है। अनुच्छेद 35A को लागू करने के लिए तत्कालीन सरकार ने धारा 370 के तहत प्राप्त शक्ति का इस्तेमाल किया था।

1 of 6