केडी सिंह बाबू आमंत्रण हॉकी में इंडिया की जूनियर टीम ने दिल और ट्रॉफी दोनों जीते

0
178
लखनऊ : लखनऊ में आयोजित 37वीं अखिल भारतीय केडी सिंह बाबू स्मारक आमंत्रण हॉकी के फाइनल में जीती हॉकी इंडिया की जूनियर टीम। सूबे के खेलमंत्री चेतन चौहान ने खिलाड़ियों को पुरस्कार बांट उनकी हौसला अफजाई की।
बेहद कड़े मुकाबले में एक गोल की बढ़त से जीत लिया फाइनल
पहले हाफ में दनादन तीन गोल दागकर हॉकी इंडिया जूनियर (ए) टीम ने बढ़त बनायी थी। लेकिन दूसरे हाफ में पीएनबी दिल्ली से मैच बचाने में पसीने छूट गए। कड़े संघर्ष में दो जवाबी गोल करके भी उपविजेता टीम मैच तो नही बचा पायी लेकिन मैदान पर बैठे दर्शकों का दिल जरूर जीत लिया।
असल में हॉकी इंडिया जूनियर (ए) के संकटमोचक सिद्ध हुये गोलकीपर ए एस संता सिंह। जिन्होंने कई महत्वपूर्ण शाट और पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदलने से रोक दिया। और टूर्नामेंट के बेहतरीन गोलकीपर का पुरस्कार भी ले उड़े। वहीं उपविजेता टीम के प्रदीप मोर ने प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का तमगा हासिल किया।
सूबे के खेल मंत्री ने किया पुरस्कार वितरण 
खेल और युवा कल्याण मंत्री चेतन चौहान जो कि कभी खुद भी टीम इंडिया के ओपनर बल्लेबाज रह चुके हैं। उन्होंने खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन किया और विजेताओं को पुरस्कार बांटे।
उन्होंने विजेता टीम को दो लाख, उपविजेता को एक लाख और तीसरे स्थान पर आई इंडियन एयरफोर्स टीम को पचास हजार का चेक देकर सम्मानित किया। व्यक्तिगत प्रदर्शन में बेस्ट फॉरवर्ड सनवर अली, बेस्ट फुलबैक हरमीत सिंह, बेस्ट हाफ शुभजीत सिंह और बेस्ट गोलकीपर ए एस संता सिंह को दस-दस हजार और सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी प्रदीप मोर ने बीस हजार का इनाम जीता ।

loading...

SHARE
Previous articleVVIP helicopter scam: पूर्व वायुसेना प्रमुख त्यागी को समन जारी
Next articleपेड न्यूज मामले में दिल्ली उच्च न्यायालय ने चुनाव आयोग से मांगे दस्तावेज

आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं।

यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।