जयपुर: घर -बाहर अक्सर भिखारी से हम सब का पाला पड़ता है। भिखारियों से तो पड़ा ही होगा जो भीख के लिए पीछे ही पड़ जाते हैं।  कई बार ऐसा होता है कि खुल्ले रूपए ना होने की वजह से उन्हें भीख देने से मना कर देते हैं। एक ऐसे भिखारी के बारे में बता रहे हैं जिसने  खुल्ले का तोड़ निकाला और अपनी भीख का इंतजाम किया।

डेट्रोएट में रहने वाले 42 साल के के एब हैगनस्टोन के बारे में, जिसने इसक तोड़ निकाला हैं। जिसे जानकर सब हैरान रह जाएंगे। तो जानते हैं इसके बारे में। इस भिखारी के आगे अगर खुल्ले नहीं होने की बात करते हैं, तो यह तुरंत एक डिवाइस आपके सामने कर देता है। इस डिवाइस से जरिए क्रेडिट और डेबिट कार्ड से पेमेंट कर सकते हैं। ऐसे में अगर हैगन से कहते हैं कि आपके पास खुल्ले नहीं है, तो ये  कार्ड से पेमेंट करने का भी ऑप्शन रख देता है।

एब हैगनस्टोन पिछले कई सालों से डेट्रॉएट में रेड लाइट पर भीख मांग रहे हैं। जब भी लोग हैगनस्टोन के सामने खुल्ले पैसे का बहाना बनाने लगे, तो उन्हें इससे निपटने के लिए तरकीब सूझी। हैगनस्टोन ने एक मशीन खरीद ली, जो वीजा, मास्टर और अमेरिकन कार्ड एक्सेप्ट करती है। बताया जाता है कि पहले तो इसमें उन्हें परेशानी होती थी, लेकिन अब वो इसमें माहिर हो चुके हैं।