UP विधानसभा चुनाव: टिकट तो काटा लेकिन ‘दादा’ से डरी हुई है बीजेपी

UP विधानसभा चुनाव: टिकट तो काटा लेकिन 'दादा' से डरी हुई है बीजेपी
1 of 2

वाराणसी: पीएम नरेंद्र मोदी के लोकसभा क्षेत्र में स्थित दक्षिण वाराणसी से सात बार के विधायक श्यामदेव राय चौधरी का टिकट काटने के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) मुश्किल में है। श्यामदेव राय चौधरी को इलाके के लोग प्यार और सम्मान से ‘दादा’ बुलाते हैं।

दादा की खासियत है कि वो अपने इलाके में कहीं भी बिना बुलाए पहुंच जाते हैं। किसी के घर में मुंडन संस्कार हो, यज्ञोपवित हो, विवाह हो या अंतिम संस्कार। दादा की मौजूदगी जरूर होती है। ये उनके अपने इलाके में प्रचार का तरीका भी है। यहां तक कि बुजुर्ग होने के कारण वो विधानसभा में भी सभी के लिए दादा ही हैं।

एमएलसी बनाने का फैसला लिया
बीजेपी ने इस बार दादा का टिकट काट दिया। हालांकि उनकी जगह सुनिश्चित थी। इससे दादा नाराज हो गए। अब वाराणसी में मंझधार में फंसी बीजेपी ने नाराज़ श्यामदेव राय चौधरी को एमएलसी बनाने का फैसला किया है।

दादा स्वीकारेंगे ऑफर?
दादा की नाराजगी के नुकसान को भांपते हुए बीजेपी मनाने में जुट गई है। बीते कई दिनों से बड़े नेता दादा को मनाने में लगे हैं, लेकिन अभी तक बात नहीं बनी है। अब बीजेपी ने दादा को एमएलसी बनाने का लालच दिया है। हालांकि, अब तक साफ नहीं है कि दादा इस ऑफर से मानेंगे या नहीं। दादा ने इस प्रस्ताव पर अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

आगे की स्लाइड में पढ़ें श्यामदेव राय चौधरी आखिर क्यों हैं ‘दादा’…

1 of 2


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App