UP विधानसभा चुनाव में तीन महिलाओं की जंग में चौथा कोण कौन?

0
74
1 of 4
क्या विपक्ष की मांग होगी पूरी, आम बजट पर लग सकती है रोक?
vinod kapoor

लखनऊ: यूपी में अगले महीने 403 सीटों पर शुरू हो रहे विधानसभा चुनाव में तीन महिलाओं की दिलचस्प जंग देखने को मिल सकती है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती एक ओर होंगी तो कांग्रेस की ओर से प्रियंका गांधी वाड्रा और समाजवादी पार्टी के अखिलेश गुट की ओर से डिंपल यादव मोर्चा संभाल सकती हैं।

हो सकता है कि कांग्रेस से सीटों के तालमेल या गठजोड के बाद प्रियंका और डिंपल एक मंच पर दिखाई दें। जबकि बीजेपी के पास राज्य में ऐसा कोई चेहरा सामने नहीं दिखाई दे रहा, जिसे आगे कर वो तीनों महिलाओं के मुकाबले खड़ा कर सके।

स्वाति सिंह से बच रही बीजेपी
बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर सिंह की मायावती को ‘अपशब्द प्रकरण’ में उनकी पत्नी स्वाति सिंह के रूप में एक महिला चेहरा बीजेपी को मिला था लेकिन लगता है कि पार्टी उसे आगे बढ़ाना नहीं चाहती। हालांकि बीजेपी ने स्वाति को प्रदेश महिला मोर्चा का अध्यक्ष बनाया है। हालांकि स्मृति ईरानी के रूप में बीजेपी के पास एक और जानदार चेहरा मौजूद है।

फ्रीज हो सकती ही ‘साइकिल’
सपा में अब विभाजन की औपचारिक घोषणा ही बाकी रह गई है। सपा के साइकिल चुनाव चिन्ह का क्या होगा इस पर निर्वाचन आयोग कल यानि 13 जनवरी को फैसला लेगा। ये माना जा रहा है कि साइकिल फ्रीज होगी। अखिलेश और मुलायम गुट को अगल-अलग चुनाव चिन्ह आवंटित किए जाएंगे।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें विनोद कपूर का पूरा लेख …

1 of 4

loading...

SHARE
Previous articleरिलीज हुआ ‘रंगून’ का पहला गाना ‘BLOODY HELL’, कंगना ऐसे ढाह रही हैं जलवे
Next articleसर्द मौसम में शुक्रवार को कैसा रहेगा दिन, बताएगा आपका राशिफल

अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये ‘कृषि जागरण’ पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत ‘इंडिया न्यूज़’ ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र ‘आज समाज’ के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।