पैरों के दर्द से निजात दिलाए बियर पेडिक्योर

पैरों के दर्द से निजात दिलाए बियर पेडिक्योर......................

नई दिल्ली : दिन भर की भाग-दौड़, ऑफिस में काम, फिर चाहे वह पूरा दिन खड़े होने का काम ही क्यों न हो, शाम में हम जब रोज घर पहुंचते हैं, तो हमारे पैर दर्द कर रहे होते हैं। पैरों में दर्द कभी-भी किसी भी समय हो सकता है। कई बार हमारी डाइट सही न होने की वजह से भी हमें पैरों में दर्द की समस्या महसूस होती है। यह समस्या सबसे ज्यादा बड़े-बूढ़े लोगों में होती है। किसी को कोई बीमारी होती है, तो किसी की उम्र ज्यादा हो जाने की वजह से यह परेशानी उत्पन्न होती है। कई लोगों को तो एक्सरसाइज करने के बाद पैरों में दर्द की शिकायत रहती है।
हर महीने पार्लर में जाकर पेडिक्योर ज्यादार महिलाएं कराती हैं। पार्लर में पैसे खर्च करना और एक दिन के बाद दोबारा उसी पैरों के दर्द से जूझना बढ़ता जा रहा है। डेड स्किन और पैरों के दर्द से छुटकारा पाने का केवल एक ही तरीका है, वह है घर पर बियर पेडिक्योर करना। इसके लिए आप किसी भी कंपनी की बियर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें : Beauti Tips : रोजाना करें चेहरे की देखभाल

शैंपू और साबित से तो हम सभी लोग पेडिक्योर करते हैं, लेकिन किसी दिन घर पर ही बियर पेडिक्योर जरूर ट्राई करें। ये आपके पैरों से डेड स्किन तो हटाने में मदद करता ही है, साथ ही यह आपके पैरों में होने वाले दर्द को भी खत्म करता है। लेकिन ध्यान रहे आपको बियर ठंडी इस्तेमाल करनी है। एक टब पानी में एक ठंडी बियर डालकर मिक्स कर लें। उसमें अपने पैर करीब आधे घंटे के लिए डिप करके रखें। इससे आपके पैरों की थकावट तो दूर होगी ही, साथ ही एडिय़ों पर मौजूद डेड स्किन भी खत्म होगी। ठंडे पानी से आपके पैरों का दर्द भी खत्म हो जाएगा।

असल में बियर में एक ऐसा तत्व पाया जाता है, जो आपके पैरों के दर्द को दूर करते हैं, उन्हें तराताजा महसूस कराता है। इसलिए अगली बार आप कभी-भी थकावट महसूस करें या खासकर पैरों में दर्द की शिकायत करें, तो एक बोतल ठंडी बियर को पानी में मिक्स करके उससे पेडिक्योर करें। रोजाना पैरों की देखभाल जैसे कि झांवा पत्थर (प्युमिस स्टोन) से स्क्रबिंग करना डेड सेल्स को हटा सकता है और पैरों में समस्याएं उत्पन्न होने की रोकथाम में मदद करता है।

प्युमिस स्टोन या फुट स्क्रब से स्क्रबिंग करके कार्न्स और कॉलसेज से बचाव करें यह डेड त्वचा को हटाने में मददगार है जो बाद में कड़ी और मोटी होना शुरू हो जाती है और चलने-फिरने के समय दर्द उत्पन्न करती है। अपने पैरों को वैसे ही माइश्चराइज करें जैसे आप शरीर के अन्य हिस्सों की केयर करते हैं। पैरों के तलुवों को मुलायम रखने के लिये इनमें कोई ऑयल ग्लैंड्स नहीं होतीं इसलिये किसी क्रीम को नियमित लगाने का रूटीन बनाना ज़रूरी है।यदि आपके पैर अत्यन्त सूखे हैं और त्वचा कटी-फटी है तो रात में सोने जाने के वक्त किसी हैवी ड्यूटी मॉइश्चराईजऱ या पेट्रोलियम जेली का अच्छी तरह प्रयोग करें और बेहतर अवशोषण के लिये इसे कॉटन सॉक्स से कवर करें।