नागपुर: महाराष्‍ट्र के यवतमाल जिले की फॉरेस्‍ट रेंज पांढ़रकवड़ा में शुक्रवार देर रात एक बड़े आपरेशन को अंजाम दिया गया। ये आपरेशन किसी आतंकवादी या किसी उग्रवादी को पकड़ने या मारने के लिए नहीं था। यह आपरेशन एक बाघिन अवनि को मारने के लिए चलाया गया। इस आपरेशन में 200 लोगों की एक खास टीम बनाई गई, जिसमें शॉर्प शूटर से लेकर पैराग्‍लाइडर्स और वाइल्‍ड लाइफ एक्‍सपर्ट् शामिल रहे। अंतत: अवनि नहीं बची, सबने मिलकर उसकी जान ले ली। इस आपरेशन को लेकर तरह तरह की चर्चाएं चल रही हैं। कुछ इसके पक्ष में तो कई लोग इस आपरेशन के खिलाफ खड़े नजर आ रहे हैं।

ये भी पढ़े: SHO को सोशल मीडिया में महिला को ‘I LOVE YOU’ लिखना पड़ा भारी, सस्पेंड

कौन थी अवनि

अवनि एक पांच वर्षीय बाघिन थी। जिस पर पिछले दो सालों में 14 लोगों की जान लेने का आरोप था। इसी आधार पर उसे आदमखोर घोषित कर दिया गया था। इसके बाद सेव टाइगर एनजीओ सहित कई अन्‍य संस्‍थाओं ने ‘लेट अ‍वनि लिव’ नामक कैंपेन चलाकर उसे बचाने की गुहार लगाई थी। लेकिन देश की सर्वोच्‍च अदालत ने सबकी याचिकाएं खारिज करते हुए अवनि को मारने का आदेश पारित कर दिया। इसके बाद एक बड़ी टीम बनाकर उसे मौत दी गई।

ये भी देखें: सीतापुर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट: हंगामे पर हाईकोर्ट सख्त ,सभी जिला जजों को पत्र जारी

खास मेल परफ्यूम बना हथियार

नरभक्षी अवनि को ट्रैप करने के लिए एक खास किस्‍म के मेल परफ्यूम का इस्‍तेमाल किया गया था। इस परफ्यूम की गंध से बाघिन आकर्षित होकर ट्रैप हो गई और डेंजर जोन में आ गई। नरभक्षी जंगली जानवरों का शिकार करने में यह परफ्यूम काफी मददगार है।

ये भी देखें: बरेली: अस्पताल के कर्मचारी बने हैवान, किशोरी के साथ किया दुष्कर्म

500 जानवरों को मारने वाले शौकत ने किया शिकार

अवनि को पकड़ने के लिए 200 एक्‍सपर्ट की टीम बनाई गई थी। अवनि के मूवमेंट पर नजर रखने के लिए 100 कैमरे लगाए गए थे। गोल्फर ज्योति रंधावा के शिकारी कुत्तों और पैराग्लाइडर्स को भी अवनि को ढूंढने के काम में लगाया गया था। उसे मारने के लिए वन विभाग ने हैदराबाद से शार्पशूटर नवाब शौकत को भी बुलाया था। उनके पास 500 जंगली जानवरों का शिकार करने का अनुभव है। अवनि जैसे ही परफ्यूम से ट्रैप होकर डेंजर जोन में आई, शौकत ने उसका शिकार कर दिया।