भोपाल : मध्य प्रदेश की सत्ता पर पिछले 15 वर्षों से काबिज बीजेपी के हाथ पैर एक रिपोर्ट देखने के बाद फूल गए हैं। इस रिपोर्ट के आने से पहले भी मध्य प्रदेश में बीजेपी को लग रहा था कि इस बार उससे सत्ता विरोधी लहर का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन उसे उम्मीद थी की गुजरात की तरह यहां भी वो इससे निपट लेगी…लेकिन लेकिन लेकिन! हमारे सूत्रों ने बताया है कि मध्य प्रदेश स्टेट इंटेलिजेंस डिपार्टमेंट ने अपनी रिपोर्ट में विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की बड़ी जीत का अनुमान लगाया है। ये रिपोर्ट सीएम शिवराज सिंह चौहान को सौंप दी गई है।

यह भी पढ़ें : MP में BJP के खिलाफ 8 राजनीतिक दलों का ‘महागठबंधन’

यह भी पढ़ें  :महागठबंधन पर सस्पेंस बरकरार, मायावती के तेवर से सकते में विपक्ष

यह भी पढ़ें : कब तक कहेंगे कुशवाहा ‘ऐसी बात नहीं है’

यह भी पढ़ें : झारखंड के घोटाला किंग मधु कोड़ा कांग्रेस की गोद में, खिलेगा नया गुल

एमपी में वोटिंग 28 नवंबर को है। नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे।

क्या है रिपोर्ट में

इस रिपोर्ट के मुताबिक कांग्रेस 128 विधानसभा सीटों पर आगे है। जबकि सत्ताधारी बीजेपी सिर्फ 92 पर ही आगे है।

इन मंत्रियों की हार तकरीबन तय

रिपोर्ट कहती है कि कद्दावर मंत्री रुस्तम सिंह, माया सिंह, गौरी शंकर शेजवार और सूर्यप्रकाश मीना चुनाव हारने की कगार पर हैं। जबकि 10 अन्य मंत्रियों की हार लगभग तय है।

राज्य बीजेपी में मचा हडकंप

सूत्र बताते हैं कि इस रिपोर्ट के आने के बाद राज्य बीजेपी संगठन हरकत में आ गया है और केंद्रीय नेताओं से संपर्क कर कई मंत्रियों के टिकट काटने और विरोध की स्थति में उससे निपटने की योजना पर काम चल रहा है।

रिपोर्ट से इंकार

बीजेपी नेता ऐसी किसी भी रिपोर्ट से इंकार कर रहे हैं। लेकिन राजनैतिक मामलों के जानकार व वरिष्ट पत्रकार अजीत उज्जैनकर कहते हैं कि देश के किसी भी राज्य में चुनाव होने पर वहां का इंटेलीजेंस विभाग सरकार को ऐसी रिपोर्ट बना कर देता रहा है। लेकिन सरकारें हमेशा इससे अपना पल्ला झाड़ लेती हैं।

उन्होंने कहा बीजेपी राज्य संगठन में जिस तरह हडकंप की स्थति है और सीएम के करीबी मंत्री सूर्यप्रकाश  ने चुनाव ना लड़ने का निर्णय किया है। वो संभावित हार के डर से किया है। मैं पिछले काफी समय से सूबे में घूम रहा हूं। इस दौरान मेरा आंकलन ये कहता है कि कांग्रेस ज्यादातर विधानसभा सीटों पर बढ़त बनाए हुए है।

अजीत ने बताया कि मेरा अनुमान है कि ग्वालियर-चंबल इलाके में कांग्रेस को 20 सीटें, बुंदेलखंड में कांग्रेस को 12 सीट, विंध्य में 18 सीट पर कांग्रेस, महाकौशल में कांग्रेस को 22 सीटें,  मालवा-निमाड़ में कांग्रेस को 34 मिल सकती हैं।

आपको बता दें राज्य में 230 विधान सभा सीटें हैं जिनमें से बीजेपी ने शुक्रवार को 177 सीटों पर उम्मीदवार घोषत किए हैं। इनमें 24 विधायकों सहित 2 मंत्रियों के  टिकट कटे हैं। इन मंत्रियों के नाम हैं माया सिंह और गौरीशंकर शेजवार।

देखें लिस्ट

2