नई दिल्ली : सरकारी तेल विपणन कंपनियों (ओएमसी) ने ईरान से अगले महीने से तेल के आयात के लिए ऑर्डर दिया है, जब ईरान पर लगाए गए अमेरिकी प्रतिबंध अमल में लाए जाएंगे। पेट्रोलियम मंत्री धमेंद्र प्रधान ने यह जानकारी दी है। भारत के रुख को दोहराते हुए प्रधान ने यहां संवाददाताओं से तीसरे इंडिया इनर्जी फोरम से इतर कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में जारी वर्तमान उछाल भू-राजनैतिक उथलपुथल के कारण है, जिसमें ईरान भी शामिल है। उन्होंने कहा कि तेल की उपलब्धता कोई मुद्दा नहीं है।

ये भी देखें : तेल का खेल : ईरान पर US का प्रतिबंध, टेंशन में भारत, सामने आया दोस्त

मंत्री ने इसी महीने घोषणा की थी कि इंडियन ऑयल कॉर्प और मंगलोर रिफाइनरी और पेट्रोकेमिकल्स लि. ने साथ मिलकर ईरान से 12.5 करोड़ टन कच्चे तेल का ऑर्डर दिया है।

ये भी देखें : पेट्रोल की कीमतों में लगी आग, newstrack ने जनवरी में ही कर दिया था आगाह

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा अमेरिका-ईरान परमाणु समझौते से हाथ खींचने के बाद फारस की खाड़ी के इस देश पर दोबारा प्रतिबंध चार नवंबर से लागू हो जाएगा।

ओएमसी के अधिकारियों के मुताबिक, ईरान के साथ तेल का मूल्य रुपये में चुकाने पर बात चल रही है और वे भारतीय मुद्रा को स्वीकार करेंगे।