नई दिल्लीः भयावह तूफान तितली ने गुरुवार को आंध्र प्रदेश के तट को पार करने से पहले ओडिशा के गोपालपुर में सुबह दस्तक दी। गृह मंत्रालय ने एक बयान में यह बात कही। तूफान को श्रेणी दो के तूफान के रूप में माना जा रहा है।

यह भी कहा गया कि “तूफान के कमजोर पड़ने के साथ हवाओं की रफ्तार भी कम होने के आसार हैं।”

इंद्रदेव के प्रकोप से रामलीला बंद, बारिश और तूफान ने किया सबकुछ तबाह

बयान के मुताबिक, “भयावह तूफान तितली ने श्रीकाकुलम जिले के पलासा के पास से आंध्र प्रदेश दक्षिण ओडिशा तट को दक्षिण-पश्चिम गोपालपुर की ओर पार किया। इसने तड़के 4.30 बजे से 5.30 बजे के बीच 140-150 किलोमीटर प्रतिघंटे से लेकर 165 किलोमीटर प्रतिघंटे की तेज रफ्तार हवाओं के साथ पार किया।”

ओडिशा के अब तक प्रभावित जिलों में गंजम, गजपति, खुर्दा, पुरी, जगतसिंहपुर, केंद्रापड़ा, भद्रक और बालासोर शामिल हैं।

तूफान के चलते गंजम, गजपति और पुरी में भारी बारिश हुई।

हाहाकारी चक्रवाती तूफान ‘तितली’ से निपटने को ओडिशा तैयार

तूफान के चलते तीन लाख लोगों को अपने घरों को खाली करना पड़ा है। विस्थापितों के लिए कुल 1,112 राहत शिविर खोले गए हैं। गंजम में 105 गर्भवती महिलाओं और जगतसिंहपुर में 18 गर्भवती महिलाओं को अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

मंत्रालय ने कहा कि विभिन्न स्तरों पर स्थिति पर करीबी नजर रखी जा रही है।

–आईएएनएस