राम मंदिर को लेकर केंद्र सरकार की भूमिका संदिग्ध: कम्प्यूटर बाबा

14 जनवरी से अनशन पर बैठे हैं महंत  श्री परमहंस दास जी

कुंभ नगर: केंद्र सरकार राम मंदिर निर्माण का आश्वासन तो देती है लेकिन मंदिर निर्माण पर कानून लाने के बजाए न्यायालय के आदेश का इंतजार करती है। जिससे अब मंदिर निर्माण में केंद्र सरकार की भूमिका संदिग्ध लग रही है और संतों का केंद्र सरकार पर से विश्वास हटने लगा है।

उक्त बातें तपस्वी की छावनी अयोध्या के महंत श्री परमहंस दास जी के सेक्टर 12 मुक्ति मार्ग थाना अन्न क्षेत्र झूंसी स्थित शिविर में अयोध्या में श्री रामजन्मभूमि मन्दिर निर्माण हेतू चेतावनी धर्म सभा में बतौर मुख्य अतिथि कम्प्यूटर बाबा ने कही।

सभा मे सभी धर्माचार्यों ने श्री राम जन्मभूमि मन्दिर निर्माण में केंद्र सरकार की भूमिका पर संदेह  जताया। सुप्रीमकोर्ट द्वारा लंबित किए जाने से धर्माचार्यों में आक्रोश व्याप्त है और अब धर्माचार्यों का सब्र जवाब देने लगा है। अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए श्री परमहंस दास जी मेला क्षेत्र में 14 जनवरी से गंगाजल पर अनशन में बैठे है।

श्री परमहंस दास जी ने शिवसेना पक्ष प्रमुख उद्धव साहेब ठाकरे को पत्र के माध्यम से सन्त समाज और   रामभक्तों में मन्दिर निर्माण के लिए उत्साहित करने के लिए प्रयागराज कुम्भ 2019 में आने का निमंत्रण पत्र शिवसेना के जिलाप्रमुख आलोक सिंह और महानगर प्रमुख शिव विशाल गुप्ता को सौपते हुए उद्धव साहेब ठाकरे को प्रयागराज आने को निमंत्रित किया।

जिला प्रमुख और महानगर प्रमुख ने पत्र को केंद्रीय कमेटी मुंबई भेजकर उद्धव साहेब के प्रयागराज आगमन की सन्तो की आकांक्षाओं की जानकारी दी।

कार्यक्रम में कम्प्यूटर बाबा सहित कई धर्माचार्य सम्मिलित हुए साथ ही जिला प्रमुख आलोक सिंह, महानगर   प्रमुख शिव विशाल गुप्ता, अधिवक्ता सेना प्रमुख प्रशांत पांडेय, युवासेना महानगर प्रमुख सिद्धार्थ श्रीवास्तव, महानगर उपप्रमुख सुनील त्रिपाठी, राहुल शर्मा, सारांकित सूर्यवंशी, अक्षय प्रताप सिंह, शुभम सिंह, फैजल खान, लियाकत खान, अरुण शिलावन, रंजन केशरवानी, दुर्गेश सिंह सहित सैकड़ों शिवसैनिक उपस्थित रहे।