शिशिर श्रीवास्तव बोले- युवाओं की मांग, देश का अगला राष्ट्रपति युवा ही हो

0
134
शिशिर श्रीवास्तव बोले- युवाओं की मांग, देश का अगला राष्ट्रपति युवा ही हो

नई दिल्ली: भारत के विभिन्न राज्यों से इकट्ठा युवाओं ने कॉन्स्टिट्यूशनल क्लब ऑफ़ इंडिया में ‘राष्ट्रीय युवा सशक्तिकरण संगोष्ठी’ में सभी राजनीतिक दलों से मांग की, कि वह अगले राष्ट्रपति के रूप में 39 वर्षीय युवा प्रेरक वक्ता एवं लेखक शिशिर श्रीवास्तव को चुनें।

21 फरवरी को आयोजित इस संगोष्ठी में श्रीवास्तव ने मुख्य वक्ता के रूप में ‘भारत में युवा: आशाएं, चुनौतियां और अवसर’ पर बोला। इस संगोष्ठी का आयोजन न्यू इंडिया बेटर इंडिया यूथ एसोसिएशन (NIBIYA) ने किया। बता दें कि यह एक गैर-राजनीतिक और गैर-लाभकारी संगठन है जो देश के युवाओं को सशक्त करने के लिए काम कर रहा है।

अब युवा थामें नेतृत्व की बागडोर
अपने मुख्य वक्तव्य में शिशिर श्रीवास्तव, ने कहा कि भारत में युवाओं को युवाओं के लिए खड़े होने का समय आ गया है। उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि युवाओं में महान ऊर्जा छिपी है। हमारे देश में खेतों से लेकर शहरों तक और शहरों से लेकर देश तक करोड़ों प्रतिभावान युवा हैं जो देश और दुनिया को बदलने में सक्षम हैं। हमें तो बस उनकी ऊर्जा को सही दिशा में निर्देशित करना है।’

युवाओं को प्रेरित करता रहूंगा
एक प्रश्न के जवाब में उन्होंने कहा, ‘आप राष्ट्रपति बनने के बाद युवाओं के लिए क्या करेंगे?’ इस पर श्रीवास्तव ने कहा, ‘मैं 21वीं सदी के एक नव-भारत के निर्माण हेतु युवा पीढ़ी को निरंतर प्रेरित करता रहूंगा और विश्व एकता के लिए काम करूंगा।’

सीएमएस में की पढाई
शिशिर श्रीवास्तव ने 1980-1995 तक सीएमएस में शिक्षा ग्रहण की। इसके बाद साल 2000 से जून 2016 तक वो सीएमएस में कार्यरत भी रहे।

ये भी रहे मौजूद
इस अवसर पर एक पैनल डिस्कशन का भी आयोजन किया गया। इसमें अभय आदित्य सिंह, प्रेजिडेंट, नगाड़ा फाउंडेशन (दिल्ली), देश दीपक द्वेदी, संस्थापक Lithics.in (नई दिल्ली), संदीप कुमार शिंदे, युवा किसान, (वाई, महाराष्ट्र) सुश्री व्हिटनी, विश्व शांति गायक (मिजोरम), कृष्णा पाल सिंह, युवा किसान (उत्तर प्रदेश), सुश्री रुचिरा शर्मा, नार्थ ईस्ट फैशन प्रमोटर (मणीपुर) एवं अमित राय, शिक्षक (उत्तर प्रदेश) उपस्थित थे।

इस कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश, बिहार, दिल्ली एवं एनसीआर, महाराष्ट्र, मणिपुर, मिजोरम और पंजाब से युवा एकत्र हुए ।