बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले ने पार्टी से दिया इस्तीफा, लगाए गंभीर आरोप

नई दिल्ली: अपने बयानों की वजह से चर्चा में रहने वाली बीजेपी सांसद सावित्री बाई फुले ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। यूपी के बहराइच से सांसद सावित्री बाई फुले ने इस्तीफा देने के साथ ही बीजेपी पर हमला बोलते गंभीर आरोप लगाए। फुले ने आरोप लगाया कि बीजेपी समाज में बंटवारे की साजिश रच रही है। इसके साथ उन्होंने बीजेपी पर देश के संविधान को बदलने की कोशिश करने का भी आरोप लगाया।

यह भी पढ़ें…..चुनाव के समय पाक से वोट मांगती है कांग्रेस, राहुल के नए एंबेसडर हैं सिद्धू: गिरिराज सिंह

बीजेपी पर साधा था निशाना

गौरतलब है कि पिछले ही दिनों राम मंदिर के मुद्दे पर सावित्री बाई फूले ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि भगवान हनुमान दलित थे और मनुवादियों के गुलाम थे। उन्होंने भगवान राम को शक्तिहीन बताते हुए कहा था कि अगर उनमें शक्ति होती तो अयोध्या में राम मंदिर बन जाता।

यह भी पढ़ें…..भगवान राम मनुवादी थे , और हनुमान जी मनुवादियों के गुलाम – सांसद सावित्री फुले

हनुमान जी को बंदर क्यों बनाया?

उन्होंने कहा था कि लोग कहते हैं कि भगवान राम हैं और उनका बेड़ा पार कराने का काम हनुमान जी ने किया था। उनमें अगर शक्ति थी तो जिन लोगों ने उनका बेड़ा पार कराने का काम किया, उन्हें बंदर क्यों बना दिया? उनको तो इंसान बनाना चाहिये था लेकिन इंसान ना बनाकर उन्हें बंदर बना दिया गया। उनको पूंछ लगा दी गई, उनके मुंह पर कालिख पोत दी गयी। चूंकि वह दलित थे इसलिये उस समय भी उनका अपमान किया गया।

यह भी पढ़ें…..परिनिर्वाण दिवस विशेष: सिर्फ संविधान निर्माता ही नहीं थे अंबेडकर

आरक्षण खत्म करने की चल रही साजिश

आरक्षण के मुद्दे पर बीजेपी पर निशाना साधते हुए फुले ने कहा था कि वह बीजेपी की नहीं बल्कि दलित की बेटी हैं। उन्होंने कहा था कि आरक्षण खत्म करने की साजिश चल रही है। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा था कि मैं सांसद नहीं बनती अगर बहराइच की सीट सुरक्षित नहीं होती। बीजेपी की मजबूरी थी कि उन्हें जिताऊ उम्मीदवार चाहिए था तो मुझे टिकट दिया गया। मैं उनकी गुलाम नहीं हूं। अगर सांसद होकर भी अपने लोगों की बात न कर सकूं तो क्या फायदा?’