इस गुमनाम चिट्ठी ने राम रहीम का खोला था काला चिट्ठा, पत्रकार की कर दी गई थी हत्या

पत्रकार राम चंद्र छत्रपति ने ही राम रहीम का सच पूरी दुनिया के सामने सबसे पहले लाया था। उन्होंने सिरसा में हुए दो साध्वियों के साथ हुए रेप की खबर को अपने अखबार ‘पूरा सच’ में छापा था। इस खबर के प्रकाशित होने के बाद राम रहीम के लोग पत्रकार राम चंद्र छत्रपति को आए दिन धमकियां देते थे।

नई दिल्ली: रेप केस में जेल में बंद डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को पत्रकार की हत्या के मामले में सीबीआई की अदालत ने दोषी करार दिया है। राम रहीम को कोर्ट 17 जनवरी को सजा सुनाई जाएगी।

यह भी पढ़ें…..बी चंद्रकला पर अब ED के निशाने पर, जल्द हो सकती है FIR

इस अखबार में पत्रकार ने छापी थी चिट्ठी

बता दें पत्रकार राम चंद्र छत्रपति ने ही राम रहीम का सच पूरी दुनिया के सामने सबसे पहले लाया था। उन्होंने सिरसा में हुए दो साध्वियों के साथ हुए रेप की खबर को अपने अखबार ‘पूरा सच’ में छापा था। इस खबर के प्रकाशित होने के बाद राम रहीम के लोग पत्रकार राम चंद्र छत्रपति को आए दिन धमकियां देते थे। इसके बावजूद पत्रकार राम चंद्र छत्रपति निर्भीक होकर राम रहीम के खिलाफ लिखते थे।

यह भी पढ़ें…..गोरखपुर महोत्‍सव का हुआ आगाज,बॉलीवुड और भोजीवुड के कलाकारों की सजेगी महफिल

पत्रकार की गोली मारकर कर दी गई थी हत्या

इसके बाद अक्टूबर 24, 2002 को पत्रकार छत्रपति पर घर के बाहर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया और गोली मारकर उनकी हत्या कर दी है। पिता की हत्या के बाद उनका बेटा अंशुल न्याय के लिए जगह-जगह भटकता रहा, लेकिन आखिरकार आज इस मामले में कोर्ट फैसला सुनाने जा रहा है। पिता की हत्या के बाद बेटा अंशुल न्याय के लिए जगह-जगह भटकता रहा, लेकिन आखिरकार आज इस मामले में कोर्ट ने राम रहीम को दोषी दहरा दिया है।

यह भी पढ़ें…..वाई फैक्टर विथ योगेश मिश्रा – मानव मल हाथ में लेकर मार्केटिंग भाई वाह… एपिसोड 28

बता दें कि पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के चिट्ठी पर संज्ञान लेने के बाद दिसंबर 12, 2002 को सीबीआई की चंडीगढ़ यूनिट ने इस मामले में धारा 376, 506 और 509 के तहत केस दर्ज किया था और जांच शुरू की थी। फिर इस मामले में राम रहीम को जेल भी हुई।