राहुल गांधी ने उड़ाया पीएम मोदी का मजाक, बोले- हमें 70 साल का हिसाब देने की जरूरत नहीं

0
34

नई दिल्लीः कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने तालकटोरा स्टेडियम में कांग्रेस के जन वेदना सम्मेलन को संबोधित करते हुए केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने पीएम मोदी और उनकी कई योजनाओं का जमकर मजाक उड़ाया। राहुल ने कहा कि पीएम मोदी ने देश की जनता के हाथों में झाड़ू पकड़ा दी। नोटबंदी की वजह से दुनिया भर में भारत का मजाक उड़ाया जा रहा है। नोटबंदी सिर्फ एक बहाना है, ताकि सरकार अपनी नाकामयाबियों को छिपा सके। हमें 70 का हिसाब देने की जरूरत नहीं है।

और क्या बोले राहुल गांधी ?
-पीएम ने नोटबंदी का अपरिपक्व फैसला लिया। आरबीआई गर्वनर की बातों को नजरअंदाज किया गया।
-बीजेपी के ‘अच्छे दिन आने वाले हैं’ नारे पर राहुल ने कहा कि जब 2019 में कांग्रेस आएगी तब अच्छे दिन आएंगे।
-बीजेपी और हमारे प्रधानमंत्री को ये कहने की आदत हो गई है कि 70 साल में कांग्रेस ने क्या किया।
-देश के लोग जानते हैं कि हमने क्या किया। हमें 70 साल का हिसाब देने की जरूरत नहीं है।
-लोग जानते हैं कि कैसे हमारे नेताओं ने देश के लिए खून और आंसू दिए हैं।
-पीएम को गरीबों और किसानों के साथ समय बिताने की जरूरत है। ये जानने की जरूरत है कि क्यों लोग गांव छोड़ रहे हैं?
-मोदी जी ने कहा कि हिंदुस्तान को साफ कर दूंगा, 3-4 दिन झाड़ू लगाया और चल दिए।

सौजन्य: ANI

इस सम्मेलन में पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी खराब स्वास्थ्य की वजह से शामिल नहीं हो पाईं। हालांकि इस सम्मेलन में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह शामिल हुए। सूत्रों की माने तो कहा जा रहा है कि इस सम्मेलन में कांग्रेस के 5000 से अधिक प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया है। इस मौके पर 5 हजार डेलीगेट्स को भी बुकलेट बांटी जाएगी।

ये भी पढ़ें… EC का आदेश: चुनाव वाले राज्यों में राजनीतिक होर्डिंग, विज्ञापनों को तुरंत हटाया जाए

बता दें कि जब से नोटबंदी का ऐलान हुआ है। तब से कांग्रेस लगातार विरोध कर रही है। इस सम्मेलन के जरिए कांग्रेस नोटबंदी के मुद्दे को देश भर में जनता के सामने रखने की कोशिश करेगी। कांग्रेस नोटबंदी को पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में भी मुद्दा बनाएगी। इस सम्मेलन की शुरुआत राहुल गांधी के भाषण से हुआ है और 4 बजे इसका समापन भी राहुल गांधी अपने भाषण से ही करेंगे।

ये भी पढ़ें…सर्वेक्षण: समय के साथ चुनाव प्रक्रिया में महिलाओं की भागीदारी में हुई उल्लेखनीय वृद्धि