राफेल डील:संसद में सीएजी रिपोर्ट पेश, कांग्रेस ने कहा- जेपीसी जांच हो

राफेल डील पर नये खुलासों के बीच मोदी सरकार ने मंगलवार को नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट संसद के दोनों सदनों में पेश कर दी। इस दौरान विपक्षी दलों ने जमकर हंगामा किया और राफेल पर जेपीसी जांच कराने की मांग की।लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने जेपीसी जांच की अपनी मांग दोहराई।

राफेल डील:संसद में सीएजी रिपोर्ट पेश, कांग्रेस ने कहा- जेपीसी जांच हो

  नई दिल्ली:  राफेल डील पर नये खुलासों के बीच मोदी सरकार ने मंगलवार को नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट संसद के दोनों सदनों में पेश कर दी। इस दौरान विपक्षी दलों ने जमकर हंगामा किया और राफेल पर जेपीसी जांच कराने की मांग की।लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने जेपीसी जांच की अपनी मांग दोहराई।

लोकसभा में कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि हमने स्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया है ताकि राफेल डील पर सदन का ध्यान आए।इस पर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जेपीसी जांच कराने का कोई औचित्य नहीं बनता है।फ्रांस के साथ 36 राफेल विमान सौदे में कांग्रेस लगातार गड़बड़ी के आरोप लगा रही है।

यह भी पढ़ें …..अखिलेश को एयरपोर्ट पर रोके जाने का मामला, राज्यसभा के बाद विधानसभा में भी हंगामा

खड़गे ने आगे कहा कि राफेल डील में 30 हजार करोड़ का घोटाला हुआ है और पीएम मोदी सीधे तौर पर इसमें शामिल हैं। उन्होंने आगे कहा कि राफेल डील को छुपाने के लिए कोशिश चल रही है, पीएम मोदी को जेपीसी जांच के लिए तैयार रहना चाहिए।

यह भी पढ़ें…..अखिलेश का योगी पर तंज- उनसे क्या सीखोगे- ठोको नीति, रोको नीति

वहीं केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जेपीसी जांच कराने का कोई औचित्य नहीं बनता है। गृहमंत्री के बयान के बाद खड़गे ने कहा कि हम साबित करके दिखाएंगे कि इस डील में घोटाला हुआ है, अगर ऐसा नहीं कर पाए तो आप कुछ भी कर लीजिएगा। खड़गे के बयान के बाद कांग्रेस सांसदों ने विरोध स्वरूप सदन से वॉकआउट किया।

यह भी पढ़ें…..राजस्थान के अन्य जिलों में फैला गुर्जर आंदोलन, ट्रेन-बस हुई बंद

दरअसल, आज सुबह सदन की बैठक शुरू होने पर लोकसभा अध्यक्ष ने प्रश्नकाल शुरू कराया। कांग्रेस के सदस्यों ने राफेल विमान सौदे में जेपीसी से जांच कराने की मांग करते हुए आसन के समीप आकर नारेबाजी की। इस दौरान कांग्रेस के सदस्यों ने पिछले दिनों एक अंग्रेजी अखबार में प्रकाशित राफेल मामले से संबंधित खबर की प्रतियां सदन में दिखाया।

12 चैप्टर लंबी है कैग की रिपोर्ट
इससे पहले राफेल डील में कथित घोटाले और गड़बड़ी के कांग्रेस पार्टी के आरोपों के बीच कैग ने अपनी रिपोर्ट राष्ट्रपति को भेज दी थी। कांग्रेस समेत कई विपक्षी पार्टियां राफेल डील को लेकर सरकार पर हमलावर हैं। दरअसल, सीएजी अपनी रिपोर्ट की एक कॉपी राष्ट्रपति के पास और दूसरी कॉपी वित्त मंत्रालय के पास भेजते हैं। बताया गया है कि सीएजी  ने राफेल पर 12 चैप्टर लंबी विस्तृत रिपोर्ट तैयार की है।