साकेत कोर्ट के अंदर वकीलों ने महिला IAS से की छेड़छाड़, विरोध करने पर पति की कर दी पिटाई

महिला आईएएस किसी केस के सिलसिले में गुरुवार को अपने पति के साथ साकेत कोर्ट गई थीं। कोर्ट के अंदर उससे छेड़छाड़ की गई और जब उसके पति ने इसका विरोध किया तो वकीलों ने उसकी पिटाई कर दी।

नई दिल्ली: दिल्ली के साकेत कोर्ट में एक महिला आईएएस के साथ छेड़खानी और बदसलूकी करने का मामला सामने आया है। महिला आईएएस किसी केस के सिलसिले में गुरुवार को अपने पति के साथ साकेत कोर्ट गई थीं। कोर्ट के अंदर उससे छेड़छाड़ की गई और जब उसके पति ने इसका विरोध किया तो वकीलों ने उसकी पिटाई कर दी। पीड़ित महिला ने इस मामले की शिकायत साकेत थाने में की है।
मालूम हो कि महिला पहले एसडीएम महरौली भी रह चुकी हैं। वह 2014 बैच की आईएसएस अफसर हैं, जो अभी मिजोरम में तैनात हैं।

ये भी पढ़ें…ये घूसखोर अधिकारी हाथ में नहीं सीधे जेब में लेता है रिश्वत के पैसे, देखिए

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक इस केस की जांच के दौरान पुलिस को कोर्ट परिसर का सीसीटीवी फुटेज मिला है। उसमें दिखाई दे रहा है कि वकीलों का एक समूह एक कपल को रोक रहा है और फिर जब बहस बढ़ती है तो वकील दंपति को धक्का भी देता है।

दक्षिण जिला के डीसीपी विजय कुमार ने बताया कि महिला आईएएस अफसर और उसका पति कोर्ट पहुंचे थे क्योंकि उनकी संपत्ति विवाद से जुड़े एक केस की सुनवाई थी। पुलिस के अनुसार उन्हें सफदरजंग अस्पताल से एक फोन आया कि एक दंपति इलाज के लिए आया है जिसकी कोर्ट में वकीलों के एक समूह ने पिटाई की है।

ये भी पढ़ें…IPS चारू बोलीं-‘महिला अधिकारी हूं, तुम्हारा गुरूर न देख पाएगा, सच्चाई में है ज़ोर इतना…’

जब पुलिस मौके पर पहुंची तो दंपति का इलाज चल रहा था। पुलिस ने बाद में महिला का बयान दर्ज किया जिसमें उसने बताया कि वह अपनी पुरानी पोस्टिंग के दौरान एक संपत्ति से जुड़ा केस हैंडल कर रही थी। शिकायतकर्ता महिला और उसका पति इस वक्त दिल्ली से बाहर पोस्टेड हैं और केस की सुनवाई के लिए दिल्ली आए थे।

पुलिस में दर्ज बयान के अनुसार जब दंपति सुनवाई के बाद वापस लौट रहे थे तो दूसरे पक्ष के लोग उनसे बहस करने लगे और धीरे-धीरे ये बहस मारपीट में बदल गई। दंपति को वकीलों की भीड़ ने घेर लिया और उन्होंने दंपति की कार भी रोकी।

ये भी पढ़ें…बीजेपी कार्यकर्त्ता ने महिला अधिकारी से की बदसलूकी, मंत्री बोले- अति उत्साहित हैं कार्यकर्त्ता…