अविश्वास प्रस्ताव : राहुल ने ‘झप्पी’ पीएम मोदी की ली नाराज ‘ताई जी’ हो गईं

नई दिल्ली : लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने शुक्रवार को सदन के भीतर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गले मिलने पर नाखुशी जाहिर की और कहा कि इस हाव-भाव से सदन के शिष्टाचार में कमी आई है। उन्होंने कहा, “मुझे भी यह पसंद नहीं है। एक शिष्टाचार होता है प्रधानमंत्री पद के लिए। सदन के भीतर सीट पर जब वह बैठे हैं तो वह नरेंद्र मोदी नहीं बल्कि भारत के प्रधानमंत्री हैं।”

लोकसभा में गृहमंत्री राजनाथ सिंह के भाषण के दौरान कुछ समय के लिए सदन के स्थगित होने के बाद जब दोबारा सदन की कार्यवाही शुरू हुई, तब लोकसभाध्यक्ष ने यह टिप्पणी की।

ये भी देखें :अविश्वास प्रस्ताव : भाषण खत्म कर पीएम मोदी को राहुल ने दी ‘जादू की झप्पी’
ये भी देखें :संसद में राहुल बाबा का ‘प्र‍िया प्रकाश’ मोड हुआ ऑन, मिशन कम्प्लीट

राजनाथ सिंह ने दोबारा अपना भाषण शुरू करते हुए कहा कि कुछ लोगों ने सदन के भीतर ‘चिपको आंदोलन’ शुरू किया है।

उनकी इस टिप्पणी पर महाजन ने कहा कि राहुल ने जो किया वह उन्हें भी पसंद नहीं है।

लोकसभा अध्यक्ष ने कहा, “आपको (कांग्रेस सदस्यों को इंगित करते हुए) यह भले ही पसंद हो लेकिन मुझे यह पसंद नहीं आया। खासतौर से उन्होंने (राहुल गांधी) प्रधानमंत्री से गले मिलने के बाद जो इशारा किया, वह मुझे पसंद नहीं आया। इस सदन में शिष्टाचार को बनाए रखने की जिम्मेदारी हमारी है।”

उन्होंने कहा, “राहुल गांधी मेरे बेटे की तरह हैं। मैं मां के रूप में उन्हें शिष्टाचार की बात बताना भी अपना कर्तव्य मानती हूं।”

ये भी देखें : जानिए दुनिया में पहली बार किस देश में लाया गया ‘अविश्वास प्रस्ताव’ और क्यों
ये भी देखें :अविश्वास प्रस्ताव : राहुल गांधी की फिसली जुबान, जोर-जोर से हंस पड़े PM
ये भी देखें : अविश्वास प्रस्ताव : नेता जी करने लगे ‘साले की फिल्म’ का प्रचार !

इससे पहले सदन में अविश्वास प्रस्ताव के दौरान अपने भाषणा में भाजपा की अगुवाई वाली सरकार की बखिया उधेड़ने के बाद राहुल गांधी सत्ताधारी पक्ष की ओर गए मोदी से गले मिले जिसे देख लोकसभा में सभी हैरान थे।

अचानक हक्का-बक्का हो जाने के बाद मोदी ने तुरंत उनको वापस बुलाकर उनसे हाथ मिलाया। उन्होंने राहुल गांधी की पीठ थपथपाई और मुस्कराते हुए दोनों नेताओं ने बात की।