कोर्ट ने हनीप्रीत को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में अंबाला जेल भेजा

0
37
पंचकूला: कोर्ट ने हनीप्रीत को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में अंबाला जेल भेजा

पंचकूला: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की ‘राजदार’ हनीप्रीत की पुलिस रिमांड आज (13 अक्टूबर) खत्म हो गया। रिमांड ख़त्म होने के बाद पुलिस ने हनीप्रीत को पंचकूला की विशेष अदालत में पेश किया, जहां से कोर्ट ने उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। बताया जा रहा है, कि हनीप्रीत को अंबाला जेल भेजा जा रहा है।

ये भी पढ़ें …हनीप्रीत ने कबूला गुनाह, तैयार किया था पंचकूला हिंसा का मास्टर प्लान!

हरियाणा पुलिस की एसआईटी टीम ने शुक्रवार को हनीप्रीत और डेरा की चेयरपर्सन विपश्यना को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की। उसके बाद हनीप्रीत को पंचकूला की विशेष अदालत में पेश किया गया। पुलिस की तरफ से रिमांड नहीं मांगे जाने पर कोर्ट ने उसे 14 दिनों के लिए जेल भेजने का फरमान सुनाया।

ये भी पढ़ें …आमने सामने आई हनीप्रीत-विपाश्यना, पुलिस कर रही पूछताछ

कोर्ट के फैसले के बाद हनीप्रीत को कड़ी सुरक्षा के बीच पुलिस अधिकारी उसे अंबाला जेल जाएंगे। इससे पहले तमाम सरकारी औपचारिकताएं पूरी की जाएंगी। इससे पहले, हनीप्रीत पेशी के दौरान पंचकूला कोर्ट में फूट-फूट कर रोयीं। उसने कोर्ट में हाथ जोड़कर जज से कहा, कि उसे जितना भी पता था, वह सब पुलिस को बता चुकी है। इतना कहने के बाद हनीप्रीत रोने लगी। इसके बाद कोर्ट में जिरह तकरीबन 20 मिनट तक चली।

ये भी पढ़ें …हनीप्रीत की रिमांड 3 दिनों के लिए और बढ़ी, क्या ‘राज’ उगलवा पाएगी पुलिस?

SHARE
Previous articleविडंबना : एक परिवार चार पीढिय़ों से कर रहा पोस्टमार्टम का काम
Next article‘द वॉयस..’ के मेजबान के रूप में वापसी करेंगे जय भानुशाली
अमन कुमार, सात सालों से पत्रकारिता कर रहे हैं। New Delhi Ymca में जर्नलिज्म की पढ़ाई के दौरान ही ये 'कृषि जागरण' पत्रिका से जुड़े। इस दौरान इनके कई लेख राष्ट्रीय, अंतरराष्ट्रीय और कृषि से जुड़े मुद्दों पर छप चुके हैं। बाद में ये आकाशवाणी दिल्ली से जुड़े। इस दौरान ये फीचर यूनिट का हिस्सा बने और कई रेडियो फीचर पर टीम वर्क किया। फिर इन्होंने नई पारी की शुरुआत 'इंडिया न्यूज़' ग्रुप से की। यहां इन्होंने दैनिक समाचार पत्र 'आज समाज' के लिए हरियाणा, दिल्ली और जनरल डेस्क पर काम किया। इस दौरान इनके कई व्यंग्यात्मक लेख संपादकीय पन्ने पर छपते रहे। करीब दो सालों से वेब पोर्टल से जुड़े हैं।