नई दिल्ली : दिल्ली हाईकोर्ट ने 2जी स्पेक्ट्रम मामले में पूर्व दूरसंचार मंत्री ए. राजा, द्रमुक सांसद कनिमोझी और अन्य को मामले से बरी करने के फैसले को चुनौती देने वाली सीबीआई की याचिका पर जवाब देने के लिए अतिरिक्त समय दिया है।

न्यायमूर्ति नाजमी वजीरी ने जांच एजेंसी की याचिका के परिप्रेक्ष्य में जवाब दाखिल करने के संबंध में कुछ आरोपियों की याचिका स्वीकार कर ली और मामले की अगली सुनवाई नौ अक्टूबर तय कर दी।

यूनिटेक ने भी एक जवाब दाखिल किया, जिसे अदालत ने रिकार्ड कर लिया है।

ये भी देखें : सुप्रीम आर्डर आया है : सीबीआई, ईडी 6 माह में पूरी करे 2जी जांच

कोर्ट सीबीआई की उस याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें 2जी स्पेक्ट्रम मामले में स्पेशल कोर्ट द्वारा राजा, कनिमोझी और अन्य को बरी किए जाने के निर्णय को चुनौती दी गई है।

स्पेशल कोर्ट ने 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन मामले में 21 दिसंबर, 2017 को सभी आरोपियों को बरी कर दिया था।

ये भी देखें : ‘2जी सागा अनफोल्ड्स’: ए. राजा ने मनमोहन की चुप्पी पर उठाए सवाल

फैसला सुनाते वक्त विशेष न्यायाधीश ओ.पी. सैनी ने कहा था कि सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय मामले में नामजद 33 लोगों के खिलाफ आरोप साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत मुहैया कराने में विफल रहीं।

राजा और कनिमोझी के अलावा विशेष न्यायाधीश ने 17 अन्य को भी मामले से बरी कर दिया था।