लालू की सजा कैदियों का मजा, दही-चूड़ा लेकर रांची जेल पहुंचे समर्थक

0
50

रांची : राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव इस समय बिरसा मुंडा जेल में चारा घोटाले की सजा काट रहे हैं उनकी सजा बाकी के कैदियों के लिए मजा बना गई है आमतौर पर जेल में मकर संक्रांति पर रौनक नजर नहीं आती है लेकिन इस बार की बात ही अलग है है। लालू पटना में इस त्योहार का बड़ी धूमधाम से मनाते रहे हैं। आज लालू भले ही जेल में हों लेकिन उनके समर्थकों को इससे कोई लेना देना नहीं है वो तो चूड़ा-दही लेकर जेल ही पहुंच गये उनकी मांग है कि चूड़ा, दही, गुड़, तिलकुट लेकर उन्हें लालू से मिलने दिया जाए।

ये भी देखें : लालू से जज बोले-…चिंता ना करें जेल के अंदर ही दही-चूड़ा का इंतजाम हो जाएगा

ऐसा पहली बार है कि लालू के समर्थक कोई हंगामा नहीं कर रहे बल्कि जेल अधिकारियों से मिन्नतें कर रहे हैं। भीड़ बढ़ती जा रही है लेकिन कहीं कोई अफरा तफरी नजर नहीं आ रही।

वहीँ संक्रांति पर बिरसा मुंडा जेल प्रशासन ने कैदियों को दही-चूड़ा और तिलकुट दिया। जबकि शाम को खिचड़ी दी जाएगी।

पटना में इस बार लालू के घर में त्योहार नहीं मनाया जा रहा उसकी दो वजह हैं पहली लालू जेल में हैं और दूसरी उनकी बड़ी बहन का निधन हाल में हुआ है

लालू की मकर संक्रांति देश भर में है चर्चित

हर साल लालू के आवास पर 14-15 जनवरी को दो दिन तक चूड़ा-दही-तिलकुट का भोज चलता रहा है। 14 जनवरी को आम भोज होता था वहीँ 15 को सिर्फ अल्पसंख्यक इस भोज में शामिल होते थे। इस भोज में सत्ता और विपक्ष सभी एक साथ लालू के आवास पर शामिल होते रहे हैं।

 

loading...

Previous article
Next articleSA vs Ind, 2nd Test : दक्षिण अफ्रीका ने पहली पारी में बनाए 335 रन
आशीष शर्मा ऋषि वेब और न्यूज चैनल के मंझे हुए पत्रकार हैं। आशीष को 13 साल का अनुभव है। ऋषि ने टोटल टीवी से अपनी पत्रकारीय पारी की शुरुआत की। इसके बाद वे साधना टीवी, टीवी 100 जैसे टीवी संस्थानों में रहे। इसके बाद वे न्यूज़ पोर्टल पर्दाफाश, द न्यूज़ में स्टेट हेड के पद पर कार्यरत थे। निर्मल बाबा, राधे मां और गोपाल कांडा पर की गई इनकी स्टोरीज ने काफी चर्चा बटोरी। यूपी में बसपा सरकार के दौरान हुए पैकफेड, ओटी घोटाला को ब्रेक कर चुके हैं। अफ़्रीकी खूनी हीरों से जुडी बड़ी खबर भी आम आदमी के सामने लाए हैं। यूपी की जेलों में चलने वाले माफिया गिरोहों पर की गयी उनकी ख़बर को काफी सराहा गया। कापी एडिटिंग और रिपोर्टिंग में दक्ष ऋषि अपनी विशेष शैली के लिए जाने जाते हैं।