छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण में इस बार 22 फीसद करोड़पति उम्मीद्वार हैं जिनकी संख्या 42 है। जबकि आठ फीसद आपराधिक मामलों वालें उम्मीद्वार तथा चार फीसदी गंभीर आपराधिक मामलों वाले उम्मीद्वार हैं। जिनकी संख्या क्रमशः 15 और आठ है। करोड़पति उम्मीदवारों की औसत संपत्ति एक करोड़ 42 लाख है।

छत्तीसगढ़ इलेक्शन वॉच और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफार्म्स ने छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण में चुनाव लड़ने वाले 190 में से 187 प्रत्याशियों के शपथपत्रों के विश्लेषण के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला है। छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 12 नवंबर को मतदान होना है। तीन उम्मीद्वारों के शपथपत्र स्पष्ट न होने के कारण उनका विश्लेषण नहीं किया गया है।

इन्हें भी पढ़ें-विकसित छत्तीसगढ़ को अब हमें नवा छत्तीसगढ़ बनाना है : अमित शाह

दलवार कांग्रेस के 18 में से सात (39 फीसद), जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के दस में से दो (20 फीसद) तथा 64 में से दो (तीन फीसद) उम्मीद्वारों ने अपने ऊपर गंभीर आपराधिक मामलों के होने की बात घोषित की है। पहले चरण के चुनाव में संवेदनशील क्षेत्र में केवल जगदलपुर एक ऐसा है जहां तीन या उससे अधिक प्रत्याशियों ने अपने ऊपर आपराधिक मामले घोषित किये हैं।

करोड़पति प्रत्याशियों में दलगतवार कांग्रेस के 18 में से 13 (72 प्रतिशत), भाजपा के 18 में से 13 (72 प्रतिशत), जेसीसी(जे) के दस में से चार(40 प्रतिशत), एसएचएस के आठ में से दो (25 प्रतिशत), बसपा के नौ में से दो(22 प्रतिशत), अम्बेडकारित पार्टी ऑफ इंडिया के दस में से एक (दस प्रतिशत) और 64 में से सात (11 प्रतिशत) निर्दलीय उम्मीद्वार करोड़पति हैं। यानी इनकी घोषित संपत्ति एक करोड़ रुपए से ज्यादा है।

इन्हें भी पढ़ें-छत्तीसगढ़ चुनाव: कांग्रेस में टिकट बंटवारे को लेकर पार्टी दफ्तर में जमकर तोड़फोड़

इसी तरह दलगतवार कांग्रेस के 18 उम्मीद्वारों की औसतन संपत्ति दो करोड़ 90 लाख है। भाजपा के 18 प्रत्याशियों की औसतन संपत्ति दो करोड़ 12 लाख है। बसपा के नौ उम्मीद्वारों की औसतन संपत्ति 44.37 लाख है। एसएचएस के आठ उम्मीद्वारों की औसतन संपत्ति 50.41 लाख रुपए है। आप के 16 उम्मीद्वारों की औसतन संपत्ति 27.02 लाख है। और 64 निर्दलीय उम्मीद्वारों की औसतन संपत्ति 32.23 लाख है।

इस चुनाव में किस्मत आजमा रहे सबसे कम संपत्ति वाले उम्मीद्वारों में रिपब्लिकन पक्ष (खोरिपा) की ओर से राजनंदगांव से लड़ रहे प्रतिमा वासनिक की संपत्ति एक हजार से कुछ अधिक है। जबकि कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में खैरगढ़ से चुनाव लड़ रहे महेश लोधी की कुल संपत्ति दो हजार से कुछ अधिक है।

इसे भी पढ़ें-छत्तीसगढ़: विधानसभा चुनाव में डिंपल समेत ये सपा नेता करेंगे प्रचार

187 उम्मीदवारों में से 103 यानी 55 प्रतिशत ने अपनी देनदारी घोषित की है। इसमें टाप पर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के टिकट पर चित्रकूट सुरक्षित सीट से चुनाव लड़ रहे टंकेश्वर भारद्वाज हैं जिनकी कुल संपत्ति सवा करोड़ से कम है लेकिन उनकी देनदारी 41 करोड़ से अधिक है। चुनाव लड़ रहे 42 उम्मीद्वारों यानी 22 फीसद ने अपने पैन का विवरण नहीं दिया है। पांच उम्मीदवारों यानी तीन फीसद ने आय का स्रोत नही बताया है। 187 उम्मीदवारों में 117 यानी 63 फीसद ने अपना आयकर विवरण घोषित नहीं किया है। पांच उम्मीद्वारों ने अपनी संपत्ति एक करोड़ से ज्यादा घोषित की है लेकिन आयकर विवरण घोषित नहीं किया है।

चुनाव लड़ रहे 119 प्रत्याशियों में 64 फीसदी ने अपनी शैक्षिक योग्यता 5वीं और 12वीं के बीच घोषित की है जबकि 60(32प्रतिशत) उम्मीदवारों  अपनी शैक्षिक योग्यता स्नातक या उससे ज्यादा घोषित की है। पांच (तीन प्रतिशत) उम्मीदवारों ने शैक्षिक योग्यता साक्षर घोषित की है। मात्र एक उम्मीद्वार ने अपनी शैक्षिक योग्यता घोषित नहीं की है।

67(36 प्रतिशत) उम्मीद्वारों ने अपनी आयु 25 से 40 वर्ष के बीच घोषित की है। जबकि सौ (53 फीसद) प्रत्याशियों ने अपनी आयु 41 से 60 वर्ष के बीच घोषित की है। 20 (11 फीसद) उम्मीद्वारों ने अपनी आयु 61 से 70 वर्ष के बीच घोषित की है। इस चुनाव के पहले चरण में 14 (आठ फीसद) महिला प्रत्याशी चुनाव लड़ रही हैं।