गुजरात : दुष्कर्म पीड़िता की पहचान के लिए 8 हजार लापता बच्चियों के डेटा की जांच

0
77

सूरत : गुजरात पुलिस ने सूरत में मृत पाई गई नौ साल की बच्ची की पहचान करने के लिए आठ हजार से ज्यादा लापता बच्चियों के डेटा को बारीकी से जांचा है। मंत्री प्रदीपसिंह जडेजा ने सोमवार को इस बात की जानकारी दी। ऐसा माना जा रहा है कि छह अप्रैल को सूरत के भेसतन इलाके के एक क्रिकेट मैदान के समीप उसे फेंकने से पहले उसका अपहरण कर प्रताड़ित और उसके साथ दुष्कर्म किया गया। कई घंटे तक चले परीक्षण के बाद आई पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ कि बच्ची को कम से कम आठ दिनों तक दुष्कर्म किया गया था और उस पर जुल्म ढाए गए थे। बच्ची के निजी अंगों समेत उसके शरीर पर 86 चोट के निशान पाए गए थे।

ये भी देखें : रेप कैपिटल ! झारखंड में पिछले 4 वर्षों में 4801 मामले दर्ज

राज्य के गृह मंत्री जडेजा ने गांधीनगर में संवाददाताओं को बताया, “उसकी गला दबाकर हत्या की गई थी और पोस्टमार्टम रिपोर्ट से यह पता चला है कि बच्ची के साथ कम से कम आठ दिनों तक दुष्कर्म किया गया और उसे प्रताड़ित किया गया।”

ये भी देखें : उन्नाव गैंगरेप: पीड़िता का बयान कलमबंद, कहा- CBI पर भरोसा, मिलेगा न्याय

बच्ची की पहचान नहीं हो पाई है और कोई भी अभी तक शव पर दावा करने के लिए आगे नहीं आया है।

उन्होंने कहा कि सूरत अपराध शाखा उसकी पहचान में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती है। उन्होंने कहा, “पुलिस ने आठ हजार लापता बच्चियों के विवरण की बारीकी से जांच की है। ऐसा लग रहा है कि वह राज्य से बाहर की है और अपराध को अंजाम देने के बाद उसे यहां फेंका गया है।”

बच्ची या उसके परिवार के बारे में जानकारी देने वाले के लिए बीस हजार रुपये के इनाम का भी ऐलान किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here